Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

पक्का

पक्का

साबरमती एक्सप्रेस छुक छुक करती हुई अपनी गति से चली जा रही थी बीच में स्टेशन पर गाड़ी रूकती है गाड़ी रुकते ही स्कूल के छात्रों का काफिला स्लीपर क्लास कोच में प्रवेश करता है पूरा कोच छात्रों से ख़चाख़च भर गया बाहर आने जाने का रास्ता भी अवरुद्ध हो गया एक दुबला पतला लड़का अपनी बहिन के साथ कोच में घुसा लड़की एक सीट के पास खड़ी हो गयी लड़का जगह तलाश कर दूसरी सीट के पास खड़ा हो गया इतने में दूसरे कम्पार्टमेंट में जोर का शोर हुआ जोर जोर से लड़ने की आवाजे आने लगीं कुछ सवारियों ने झांक कर देखा कुछ ने एक दूसरे से पूछा क्या, क्या हुआ पता लगा कि सीट पर बैठने को लेकर लड़के झगड़ा कर रहे हैं और बोल रहे हैं इधर पहले हम चलते हैं बाकी सब बाद में अचानक एक छात्र जो की ड्रेस में था खड़ी हुई लड़की से सट के खड़ा हो जाता है लड़की- इधर जगह नहीं है, लड़का- मालूम है लेकिन जाना तो सबको है बोले तो सबको…. कहते हुए अपना हाथ लड़की के हाथ पे रख देता है लड़की हाथ हटाते हुए अपना हाथ दूसरी जगह पे रखती है लड़का फिर उसके हाथ पे हाथ रखता है और सटते हुए, लड़की- ये क्या बेहूदगी है लड़का (छात्र) मुझे जाने देगी या नहीं खड़ा होना दूभर कर दिया तूने तू ही तो सबसे बड़ी हूर है न इस ट्रैन में इतने में लड़की का भाई अरे ठीक से खड़े हो जाओ, छात्र चुप बैठ या बताऊँ तुझे अभी तभी पीछे से दूसरे छात्र की आवाज आती है कौन है क्या आऊं , अरे नहीं इसके जैसे चार के लिए मैं अकेला काफी हूँ कोच में सन्नाटा अब कोई सवारी भी नहीं बोलती लड़की भी चुप अचानक चार किन्नर मदमस्त झूमते हुए आते हैं एक किन्नर बाकियों से अरे तुम सब आगे जाओ इधर मैं रहूँगा हटो हटो निकलते चलो बढ़ाते चलो इज्जत से हाँ भाई सब अच्छे अच्छे से जाओ कुछ हमें भी देते जाओ सवारियां दस दस के नोट निकाल के देना शुरू कर देती हैं एक सवारी चुप हिलती डुलती भी नहीं है किन्नर इज्जत से निकालेगा या गोली ……
सवारी कुछ भी छुट्टा नहीं है अबे तू सौ का पचास क जो हो दे ईमानदारी से दस काटूंगी , अगर किसी पे न हो हो तो खोल के दिखा दे नहीं लूंगी एक बच्चा पांच का सिक्का निकल के देता है अरे शाबाश पहले दिखा तेरे पास और हैं पर्स दिखाते हुए मेरे पास हैं अरे मेरे दिलदार लाल तू जुग जुग जिए इतने में परेशान हाल लड़की उस लड़के से अरे अब थोड़ा किनारे हो जाओ अब गर्मी और तुम्हारे बजन से बुरा हाल है किन्नर छात्र से अबे सीधा खड़ा हो साले, लड़की से तू कहाँ तक जाएगी कौन है तेरे साथ मेरा भाई है ये इधर लेकिन इस लड़के ने परेशां कर रखा है ये बहुत लड़के हैं किन्नर अबे हट बहिन के……………
आगे बढ़ाते हुए एक सवारी से इधर बिठा ले इसे, अरे भाई मेरे पास छोटा बच्चा है ये भी तो तेरी बच्ची ही है बिठा इसे चल! सवारी चुप, खिसकाते हुए लड़की को बिठा देता है छात्र(लड़के) की तरफ घूरते हुए “अबे दुबारा देखा न इधर तो सब तेरा निकाल के हाथ पे रख दूँगी छक्का न समझना पक्का हूँ मैं रे पक्का” ताली पीटती है लड़का नीचे गर्दन डाल के चुप, किन्नर लड़की से मैं आगे हूँ कोई बोले तो बताना लिख ले मेरा नंबर रोज चलती हूँ इसपे , अब कम्पार्टमेंट में दुबारा सन्नाटा लड़का इस छक्के को सुधारना पड़ेगा, साथी छोड़ यार इनसे कभी नहीं जीतोगे, छोड़ेंगे नहीं हम लोगों को घर तक पहुंचेंगे ये, अगले स्टेशन पे छात्र उतर जाते हैं लड़की राहत की सांस लेती है आगे एक और सवारी उतरती है, अब भाई बहिन दोनों साथ साथ बैठ जाते हैं भाई मैंने पहले ही तुझसे कहा था सरकारी बस से चलेंगे तूने एक नहीं सुनी, अब इनसे सबसे कौन अकेले लड़े रेल में अकेले चलने का धर्म नहीं है लड़की बस में दोनों के १३० रुपये लगते भला हो इस किन्नर का अब तो रेल में ही चलूंगी इसे फ़ोन कर लिया करूंगी अपना ये तो भाई पक्का है अब तू छोटा भाई है तो ये बड़े भाई जैसा है!

1 Like · 263 Views
You may also like:
आज नहीं तो कल होगा / (समकालीन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
"मेरे पिता"
vikkychandel90 विक्की चंदेल (साहिब)
पितृ वंदना
मनोज कर्ण
✍️महानता✍️
'अशांत' शेखर
वो बरगद का पेड़
Shiwanshu Upadhyay
✍️इंतज़ार✍️
Vaishnavi Gupta
मेरी भोली ''माँ''
पाण्डेय चिदानन्द
जीवन के उस पार मिलेंगे
Shivkumar Bilagrami
पितृ वंदना
संजीव शुक्ल 'सचिन'
The Sacrifice of Ravana
Abhineet Mittal
मर्द को भी दर्द होता है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मेरा गुरूर है पिता
VINOD KUMAR CHAUHAN
सत्यमंथन
मनोज कर्ण
सच्चे मित्र की पहचान
Ram Krishan Rastogi
दिलों से नफ़रतें सारी
Dr fauzia Naseem shad
आनंद अपरम्पार मिला
श्री रमण 'श्रीपद्'
आंखों पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
✍️ईश्वर का साथ ✍️
Vaishnavi Gupta
🥗फीका 💦 त्यौहार💥 (नाट्य रूपांतरण)
पाण्डेय चिदानन्द
पिता
Deepali Kalra
ख़्वाब पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
हवा का हुक़्म / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिताजी
विनोद शर्मा सागर
इंतजार
Anamika Singh
"रक्षाबंधन पर्व"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
ओ मेरे साथी ! देखो
Anamika Singh
मेरे बुद्ध महान !
मनोज कर्ण
ढाई आखर प्रेम का
श्री रमण 'श्रीपद्'
"हैप्पी बर्थडे हिन्दी"
पंकज कुमार कर्ण
बुध्द गीत
Buddha Prakash
Loading...