Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Mar 2022 · 1 min read

#पंजाबनगर_शिव_मंदिर

#पंजाबनगर_शिव_मंदिर
■■■■■■■■■■■■
रामपुर 18 फरवरी 2015
शिवरात्रि के अगले दिन प्रातः10 बजे यह विचार बना कि ग्राम पंजाबनगर स्थित शिव मन्दिर जाया जाए। हम दोनों (अर्थात with Manjul Rani) ई.रिक्शा से 11 बजे चल दिए। सिविल लाइन्स ,ज्वालानगर से ग्राम अजीतपुर तथा पसियापुरा होते हुए हम मन्दिर में पहुँचे। रास्ता लगभग ठीक था। मगर सुधार की बेहद आवश्यकता महसूस हुई।
संयोगवश मन्दिर के गर्भगृह के मुख्य द्वार पर ही मन्दिर के संस्थापक श्री छेदालात सक्सेना जी (रिटायर्ड तहसीलदार आयु लगभग 80 वर्ष से अधिक) कुर्सी पर विराजमान दिखे। पिताजी से उनका पुराना परिचय था। बस फिर क्या था! सारा मन्दिर उन्होंने साथ घूमकर दिखाया।
1993 में मन्दिर की स्थापना छेदालाल जी की भूमि पर ही उनके प्रयत्नों से हुई थी। अब यह जनपद का प्रमुख मन्दिर है। अन्त में उन्होंने परिसर के बाहर खड़े बरगद के पेड़ के पास से मन्दिर का भव्य दीख रहा चित्रण भी कराया। स्व. रामरूप जी गुप्त, स्व. ब्रजराज शरण गुप्त वकील साहब, श्री सुरेन्द्र पाठक एडवोकेट, एवं श्री रामप्रकाश बजाज आदि के साथ बाल्यावस्था का भी उन्होंने भाव-पूर्ण स्मरण किया। चित्रों में (एक) श्री छेदालाल जी (अन्य) मन्दिर के खींचे गए चित्र ।

0

222 Views

Books from Ravi Prakash

You may also like:
अंधेरों रात और चांद का दीदार
अंधेरों रात और चांद का दीदार
Charu Mitra
*नमन सकल जग के स्वामी【हिंदी गजल/गीतिका】*
*नमन सकल जग के स्वामी【हिंदी गजल/गीतिका】*
Ravi Prakash
रंगे अमन
रंगे अमन
DR ARUN KUMAR SHASTRI
दिल की बात
दिल की बात
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
आदिवासी -देविता
आदिवासी -देविता
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
फक़त हर पल दूसरों को ही,
फक़त हर पल दूसरों को ही,
Aksharjeet Ingole
करिए विचार
करिए विचार
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
प्रेम का दीप जलाया जाए
प्रेम का दीप जलाया जाए
अनूप अम्बर
एक ज़िंदगी में
एक ज़िंदगी में
Dr fauzia Naseem shad
हम उसी समाज में रहते हैं...जहाँ  लोग घंटों  घंटों राम, कृष्ण
हम उसी समाज में रहते हैं...जहाँ लोग घंटों घंटों राम,...
ruby kumari
पायल बोले छनन छनन - देवी गीत
पायल बोले छनन छनन - देवी गीत
Ashish Kumar
प्रेम में पड़े हुए प्रेमी जोड़े
प्रेम में पड़े हुए प्रेमी जोड़े
श्याम सिंह बिष्ट
दिल पे पत्थर
दिल पे पत्थर
shabina. Naaz
ना गौर कर इन तकलीफो पर
ना गौर कर इन तकलीफो पर
Taran Singh Verma
इतना हल्का लगा फायदा..,
इतना हल्का लगा फायदा..,
कवि दीपक बवेजा
🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺
🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺
subhash Rahat Barelvi
रूठ जाने लगे हैं
रूठ जाने लगे हैं
Gouri tiwari
बाल कविता हिन्दी वर्णमाला
बाल कविता हिन्दी वर्णमाला
Ram Krishan Rastogi
🪔🪔जला लो दिया तुम मेरी कमी में🪔🪔
🪔🪔जला लो दिया तुम मेरी कमी में🪔🪔
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
क्या करूँगा उड़ कर
क्या करूँगा उड़ कर
सूर्यकांत द्विवेदी
🌷 चंद अश'आर 🌷
🌷 चंद अश'आर 🌷
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
नदियां जो सागर में जाती उस पाणी की बात करो।
नदियां जो सागर में जाती उस पाणी की बात करो।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
झूठी वाहवाही
झूठी वाहवाही
Shekhar Chandra Mitra
भोजपुरी ग़ज़ल
भोजपुरी ग़ज़ल
Mahendra Narayan
दीदार ए वक्त।
दीदार ए वक्त।
Taj Mohammad
मन के ब्यथा जिनगी से
मन के ब्यथा जिनगी से
Ram Babu Mandal
यदि कोई अपनी इच्छाओं और आवश्यकताओं से मुक्त हो तो वह मोक्ष औ
यदि कोई अपनी इच्छाओं और आवश्यकताओं से मुक्त हो तो...
Ankit Halke jha
■ चिंतन / मूल्य मानव का.....
■ चिंतन / मूल्य मानव का.....
*Author प्रणय प्रभात*
✍️पत्थर✍️
✍️पत्थर✍️
'अशांत' शेखर
राष्ट्रीय गणित दिवस....
राष्ट्रीय गणित दिवस....
डॉ.सीमा अग्रवाल
Loading...