पंचतत्‍व में

रे मानव
,
अब भी सम्‍हल
मौत गूँगी सही
बहरी सही

अंधी सही

पर ! तेरे पास
पहुँचने से पहले
कितने संदेश तुझे भिजवाये,
पर ! तू समझे तब….
बाल सफेद हुए
फिर भी न सम्‍हला !
दृष्टि धूमिल हुई
फिर भी न बदला !!
दाँँत गिरने लगे
फिर भी न लगा !!!
कि कोई पास आ रहा है
तेरे जीवन में
तेरे डगमगाते
जर्जर शरीर को
पंचतत्‍व में
विलीन करने के लिए।

241 Views
You may also like:
मेरे पिता
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
एहसासों का समन्दर लिए बैठा हूं।
Taj Mohammad
सुधारने का वक्त
AMRESH KUMAR VERMA
दो बिल्लियों की लड़ाई (हास्य कविता)
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*सुकृति: हैप्पी वर्थ डे* 【बाल कविता 】
Ravi Prakash
हमारे पापा
पाण्डेय चिदानन्द
बनकर कोयल काग
Jatashankar Prajapati
करते रहिये काम
सूर्यकांत द्विवेदी
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता है [भाग२]
Anamika Singh
वर्तमान परिवेश और बच्चों का भविष्य
Mahender Singh Hans
माँ की महिमाँ
Dr. Alpa H.
कौन था वो ?...
मनोज कर्ण
राम काज में निरत निरंतर अंतस में सियाराम हैं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पिता के चरणों को नमन ।
Buddha Prakash
【26】**!** हम हिंदी हम हिंदुस्तान **!**
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
मैं धरती पर नीर हूं निर्मल, जीवन मैं ही चलाता...
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
【7】** हाथी राजा **
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
सच का सामना
Shyam Sundar Subramanian
रसिया यूक्रेन युद्ध विभीषिका
Ram Krishan Rastogi
सलाम
Shriyansh Gupta
दुलहिन परिक्रमा
मनोज कर्ण
यही है भीम की महिमा
Jatashankar Prajapati
आज फिर
Rashmi Sanjay
💐प्रेम की राह पर-30💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मेरी राहे तेरी राहों से जुड़ी
Dr. Alpa H.
राम नाम ही परम सत्य है।
Anamika Singh
पितु संग बचपन
मनोज कर्ण
पिता
Kanchan Khanna
पिता
Neha Sharma
आंचल में मां के जिंदगी महफूज होती है
VINOD KUMAR CHAUHAN
Loading...