Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 26, 2022 · 2 min read

न थी ।

जलती तो थी पर आग न थी ।
बरसती तो थी पर बरसात न थी।
चमकती तो थी पर कोई आभ न थी।
बजती तो थी सुरीली पर कोई सितार न थी ।
कहूं क्या मै उस कहकशा को ।
ठहरती तो थी पर मुसाफिर न थी।
हंसती तो थी खिल-खिलाकर पर कोई खुशी तो न थी ।
बेवजह तो सब कुछ नही था ।
जागती थी हर पल वो दिन नही वो रात थी ।
ये भी क्या अजीब था उसका कही पर खो जाना ।
पर ऐसी कोई बात तो न थी ।
मैने न जाना तूने न जाना ।
पर दिल में उसके भूचाल -सी थी।
उमङती-घुमङती तो थी वो पर कोई घटाओ की सैलाब तो न थी।
दर्द समझ में नही आता उसका ।
रोती भी नही ऐसे लगता जैसे कोई बात नही ।
चंचल मन -सी थी उसकी सोच पर एक जगह ही वह विराजमान सी क्यो थी ।
जहर का घूंट वो पी रही थी,पर ऐसा क्यो लग रहा था वो बिल्कुल ठीक-ठाक थी ।
दम तोङा भी उसने सांसे छोङा भी उसने ।
तो बताया क्यो कुछ नही उसे तकलीफ क्या थी ।
क्यो दर्द को भी उसने जीत लिया।
जैसे लगा दर्द से निपटने की उसकी कोई तरकीब न थी ।
न जाने कितने ऐसे है अंदर गमो कायम समंदर पीए जा रहे है ।
चेहरे पर कोई शिकन तक नही ।
वो भी क्या इंसान होंगे जो कभी किसी से कुछ कहते नही ।
काश जान जाते हम उसके उतरे हुए चेहरे कायम राज तो शायद कोई आत्महत्या होती नही ।
गमो को बांट ले हम भी थोड़ा सा।
अपने हिस्से की थोड़ी खुशी दे दे उसे ।
कहती तो बहुत थी वो पर अंदर से चुप थी ।

1 Like · 54 Views
You may also like:
बरसात की झड़ी ।
Buddha Prakash
रसूल ए खुदा।
Taj Mohammad
✍️गलती ✍️
Vaishnavi Gupta
जीवन की दुर्दशा
Dr fauzia Naseem shad
मेरा सुकूं चैन ले गए।
Taj Mohammad
बेचैनियाँ फिर कभी
Dr fauzia Naseem shad
*स्वर्गीय श्री जय किशन चौरसिया : न थके न हारे*
Ravi Prakash
कूड़े के ढेर में भी
Dr fauzia Naseem shad
मां जैसा कोई ना।
Taj Mohammad
समझता है सबसे बड़ा हो गया।
सत्य कुमार प्रेमी
*आज बरसात है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
आज भी याद है।
Taj Mohammad
जहर कहां से आया
Dr. Rajeev Jain
पापा की परी...
Sapna K S
हमारा दिल।
Taj Mohammad
" सामोद वीर हनुमान जी "
Dr Meenu Poonia
यश तुम्हारा भी होगा
Rj Anand Prajapati
✍️अच्छे दिन✍️
"अशांत" शेखर
अविश्वास
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
ज़िंदगी में न ज़िंदगी देखी
Dr fauzia Naseem shad
दिल ज़रूरी है
Dr fauzia Naseem shad
आईनें में सूरत।
Taj Mohammad
काश....! तू मौन ही रहता....
Dr. Pratibha Mahi
वक्त का खेल
AMRESH KUMAR VERMA
#आर्या को जन्मदिन की बधाई#
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
स्मृति : पंडित प्रकाश चंद्र जी
Ravi Prakash
क्या लिखूं मैं मां के बारे में
Krishan Singh
अपनी ख़्वाहिशों को
Dr fauzia Naseem shad
तनिक पास आ तो सही...!
Dr. Pratibha Mahi
✍️बेवफ़ा मोहब्बत✍️
"अशांत" शेखर
Loading...