Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

न जन्म से न धर्म से

न जन्म से न धर्म से, इंसान बनता है अपने कर्म से,
जब कभी होता है हनन कंही अधिकारों का यहां,
पुकार तो पुकारती रहती है अपनी आवाज़ शर्म से,

ढोंगी पाखंडी समाज में जब उतरती है धुप की किरण,
चिर देती है हर अँधेरे को, होकर बिलकुल बेशर्म,
फ़ैल जाता है उजाला, जो चुप्पी तोड़ दे इंसान का भृम,

खवाबों और ख्यालों में फर्क सिर्फ नींदों का होता है,
जो आँख खुल जाये तो, ख्याल कदम रखते है,
वो जुड़ जाते है ख्यालों से, फिर करना होता है कर्म,
तनहा शायर हूँ

312 Views
You may also like:
✍️सूरज मुट्ठी में जखड़कर देखो✍️
'अशांत' शेखर
कहीं पे तो होगा नियंत्रण !
Ajit Kumar "Karn"
बुआ आई
राजेश 'ललित'
One should not commit suicide !
Buddha Prakash
नदी की अभिलाषा / (गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता
Mamta Rani
एसजेवीएन - बढ़ते कदम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
✍️बड़ी ज़िम्मेदारी है ✍️
Vaishnavi Gupta
मौन में गूंजते शब्द
Manisha Manjari
हमनें ख़्वाबों को देखना छोड़ा
Dr fauzia Naseem shad
आया रक्षाबंधन का त्योहार
Anamika Singh
💔💔...broken
Palak Shreya
मेरा खुद पर यकीन न खोता
Dr fauzia Naseem shad
माखन चोर
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
ग़रीब की दिवाली!
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
✍️महानता✍️
'अशांत' शेखर
“ तेरी लौ ”
DESH RAJ
कुछ पंक्तियाँ
आकांक्षा राय
.....उनके लिए मैं कितना लिखूं?
ऋचा त्रिपाठी
रफ्तार
Anamika Singh
श्री राम स्तुति
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
चंदा मामा बाल कविता
Ram Krishan Rastogi
नफरत की राजनीति...
मनोज कर्ण
विश्व फादर्स डे पर शुभकामनाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बरसात
मनोज कर्ण
मेरे पिता
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
छलकता है जिसका दर्द
Dr fauzia Naseem shad
जादूगर......
Vaishnavi Gupta
✍️जीने का सहारा ✍️
Vaishnavi Gupta
गीत
शेख़ जाफ़र खान
Loading...