Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 19, 2017 · 1 min read

*नफरत का मूल कारण कूटनीति*

मिर्च मसाला बिखरा पड़ा,
जो चाहे जैसी सब्जी,व्यंजन ले बनाये,
तीखे फिके के चक्कर में….,
भूखा ही रह जाए…….,

अर्थातः-
भूखा व्यक्ति पसंद नहीं देखता,
जो पसंद देखे वह भूखा नहीं,
जिसको प्यास है वह जाति-वर्ण नहीं पूछता
पानी पी कर प्यास बुझा लेता है,

रोगी इलाज खोजता है,
पैथी में अंग्रेजी या देशी नहीं,
प्रसव में,सर्जरी में,हड्डी-फ्रैक्चर में
क्या अंग्रेजी क्या फारसी, क्या देशी?
.
कोई डिलीवरी देशी या अंग्रेजी
होती देखी है ….कभी,
अगर हाँ तो…
मैं आपको बता दूँ
पहले गर्भाशय का मुख खुलता है,
फिर बच्चा घाट से बाहर आता है,
और जन्म ले लेता है,ओर बाकी प्रक्रिया पूरी की जाती है,किसे धोखा दे रहे हो,

डॉ महेन्द्र सिंह खालेटिया,

1 Like · 1 Comment · 266 Views
You may also like:
नए-नए हैं गाँधी / (श्रद्धांजलि नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
आपको याद भी तो करते हैं
Dr fauzia Naseem shad
तुम वही ख़्वाब मेरी आंखों का
Dr fauzia Naseem shad
फौजी बनना कहाँ आसान है
Anamika Singh
पिता
Dr. Kishan Karigar
दिल में बस जाओ तुम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मेरी भोली “माँ” (सहित्यपीडिया काव्य प्रतियोगिता)
पाण्डेय चिदानन्द
मोहब्बत की दर्द- ए- दास्ताँ
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
कोई मरहम
Dr fauzia Naseem shad
बारिश की बौछार
Shriyansh Gupta
सही गलत का
Dr fauzia Naseem shad
संत की महिमा
Buddha Prakash
दर्द की हम दवा
Dr fauzia Naseem shad
पितृ स्तुति
दुष्यन्त 'बाबा'
सफ़र में रहता हूं
Shivkumar Bilagrami
बँटवारे का दर्द
मनोज कर्ण
अनामिका के विचार
Anamika Singh
✍️इतने महान नही ✍️
Vaishnavi Gupta
कैसा हो सरपंच हमारा / (समसामयिक गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ग़ज़ल
सुरेखा कादियान 'सृजना'
हमसे न अब करो
Dr fauzia Naseem shad
पितृ वंदना
मनोज कर्ण
नदी की पपड़ी उखड़ी / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता
Mamta Rani
याद पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
सिद्धार्थ से वह 'बुद्ध' बने...
Buddha Prakash
पिता
Manisha Manjari
सोलह शृंगार
श्री रमण 'श्रीपद्'
* सत्य,"मीठा या कड़वा" *
मनोज कर्ण
पिता की अभिलाषा
मनोज कर्ण
Loading...