Jan 17, 2022 · 1 min read

जीने की बात करो

जिन्हें सोचकर
हौसला पाते हम
अगर वही
बेबसी की
बात करने लगें!
जिन्हें सुनकर
उम्मीद पाते हम
अगर वही
मायूसी की
बात करने लगें!
तो ऐ दिल
क्या हम
जीते जी ही
मर नहीं
जाएंगे अब?
जिन्हें देखकर
ज़िंदगी पाते हम
अगर वही
खुदकुशी की
बात करने लगें!
Shekhar Chandra Mitra

124 Views
You may also like:
*!* हट्टे - कट्टे चट्टे - बट्टे *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
【12】 **" तितली की उड़ान "**
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
पिता का साथ जीत है।
Taj Mohammad
मैं मेहनत हूँ
Anamika Singh
जिंदगी और करार
ananya rai parashar
प्यार, इश्क, मुहब्बत...
Sapna K S
बँटवारे का दर्द
मनोज कर्ण
प्यार
Swami Ganganiya
कुंडलियां छंद (7)आया मौसम
Pakhi Jain
ग़ज़ल
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
इंसान जीवन को अब ना जीता है।
Taj Mohammad
मज़हबी उन्मादी आग
Dr. Kishan Karigar
!?! सावधान कोरोना स्लोगन !?!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
शादी से पहले और शादी के बाद
gurudeenverma198
सौ प्रतिशत
Dr Archana Gupta
* फितरत *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मिलन-सुख की गजल-जैसा तुम्हें फैसन ने ढाला है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
जाने क्यों
सूर्यकांत द्विवेदी
श्रीराम गाथा
मनोज कर्ण
बेपरवाह बचपन है।
Taj Mohammad
दुर्योधन कब मिट पाया:भाग:36
AJAY AMITABH SUMAN
🌷🍀प्रेम की राह पर-49🍀🌷
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
दर्पण!
सेजल गोस्वामी
उम्मीदों के परिन्दे
Alok Saxena
*आत्मा का स्वभाव भक्ति है : कुरुक्षेत्र इस्कॉन के अध्यक्ष...
Ravi Prakash
क्या लिखूं मैं मां के बारे में
Krishan Singh
पिता कुछ भी कर जाता है।
Taj Mohammad
# हे राम ...
Chinta netam मन
पिता, इन्टरनेट युग में
Shaily
कर्म ही पूजा है।
Anamika Singh
Loading...