Dec 14, 2017 · 1 min read

नैनन में है जल भरा…

नैनन में है जल भरा, आँचल में आशीष।
तुम-सा दूजा नहि यहाँ, तुम्हें नवायें शीश।।

कंटक सा संसार है, कहीं न टिकता पाँव।
अपनापन मिलता नहीं, माँ के सिवा न ठाँव।।

रहीं लहू से सींचती, काया रची सप्रेम।
संस्कारित मन आचरण, अदभुत तेरा प्रेम।।

रात रात भर जागकर, हमें लिया है पाल।
ऋण तेरा जन्मो जनम, सोंचे तेरे लाल।।

स्वार्थ लोभ से है रहित, अंतस स्नेह दुलार.
माँ का अनुपम प्रेम है, शीतल सुखद बयार।।

जननी को जो पूजता, जग पूजै है सोय।
महिमा वर्णन कर सके, जग में दिखे न कोय।।

माँ तो जग का मूल है, माँ में बसता प्यार।
जगजननी के सामने, नतमस्तक संसार।।

–इंजी० अम्बरीष श्रीवास्तव ‘अम्बर’

111 Views
You may also like:
शब्द बिन, नि:शब्द होते,दिख रहे, संबंध जग में।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
तन्हा हूं, मुझे तन्हा रहने दो
Ram Krishan Rastogi
पिता
कुमार अविनाश केसर
विभाजन की व्यथा
Anamika Singh
ये दिल मेरा था, अब उनका हो गया
Ram Krishan Rastogi
अनजान बन गया है।
Taj Mohammad
💐प्रेम की राह पर-56💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
उम्मीदों के परिन्दे
Alok Saxena
मां
हरीश सुवासिया
नींबू की चाह
Ram Krishan Rastogi
पप्पू और पॉलिथीन
मनोज कर्ण
शिखर छुऊंगा एक दिन
AMRESH KUMAR VERMA
पिता
Kanchan Khanna
कर्ज
Vikas Sharma'Shivaaya'
एहसासों का समन्दर लिए बैठा हूं।
Taj Mohammad
"एक नज़्म लिख रहा हूँ"
Lohit Tamta
पर्यावरण बचा लो,कर लो बृक्षों की निगरानी अब
Pt. Brajesh Kumar Nayak
सिया
सिद्धार्थ गोरखपुरी
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता हैं [भाग८]
Anamika Singh
शब्द नही है पिता जी की व्याख्या करने को।
Taj Mohammad
किसी और के खुदा बन गए है।
Taj Mohammad
🍀प्रेम की राह पर-55🍀
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अफसोस-कर्मण्य
Shyam Pandey
पापा आपकी बहुत याद आती है !
Kuldeep mishra (KD)
💐💐धड़कता दिल कहे सब कुछ तुम्हारी याद आती है💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हम आ जायेंगें।
Taj Mohammad
जब वो कृष्णा मेरे मन की आवाज़ बन जाता है।
Manisha Manjari
जमीं से आसमान तक।
Taj Mohammad
Life through the window during lockdown
ASHISH KUMAR SINGH 9A
काश मेरा बचपन फिर आता
Jyoti Khari
Loading...