Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

नेता

सावधान!
मैं नेता हूँ
जनता का प्रतिनिधि
जो बढ़ाता है,
बहुविधि अपनी निधि।
मेरी हर गतिविधि
होती है अत्यन्त रहस्यमयी
मैं फेंकता हूँ
कुछ इस तरह,
जनता की रूह में उतर जाती है।
मैं मुकरता हूँ ऐसे
जनता समझ ले मजबूरी है।
मैं कैसे समझाऊँ
समझाना भी नहीं चाहता
मेरी हर गतिविधि में
छूपा बड़ा मर्म है
वादा करके मुकर जाना
असली नेता का धर्म है।
मैं अत्यन्त धार्मिक हूँ,
सहिष्णु और समाजवादी भी,
मैं, मैं हूँ
मेरा धर्म है
जनता की भावनाओं से खेलना
और समय आने पर
उसे अपनी कुर्सी के
पाए बनाना।
यह जनता है,
जो समझती ही नहीं,
मेरा अपना एक धर्म है,
कुर्सी के लिए
हद तक गिर जाने में
नहीं कोई शर्म है।
मैं नेता हूँ
प्रतिपल कोसता हूँ औरों को
और स्वयं
जनता के खून को
चूसता हूँ,
मांस तो है नहीं
तो हड्डियों को
भकोसता हूँ
मैं नेता हूँ।

2 Likes · 397 Views
You may also like:
मेरे पिता है प्यारे पिता
Vishnu Prasad 'panchotiya'
ठोडे का खेल
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
✍️बचपन का ज़माना ✍️
Vaishnavi Gupta
पहाड़ों की रानी शिमला
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
ख़्वाहिशें बे'लिबास थी
Dr fauzia Naseem shad
पिता की नियति
Prabhudayal Raniwal
राष्ट्रवाद का रंग
मनोज कर्ण
हमें क़िस्मत ने आज़माया है ।
Dr fauzia Naseem shad
हे पिता,करूँ मैं तेरा वंदन
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
कौन दिल का
Dr fauzia Naseem shad
पितु संग बचपन
मनोज कर्ण
थोड़ी सी कसक
Dr fauzia Naseem shad
भोजपुरी के संवैधानिक दर्जा बदे सरकार से अपील
आकाश महेशपुरी
पिता के चरणों को नमन ।
Buddha Prakash
मेरे पिता
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
आज मस्ती से जीने दो
Anamika Singh
जीवन की प्रक्रिया में
Dr fauzia Naseem shad
बरसाती कुण्डलिया नवमी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दिलों से नफ़रतें सारी
Dr fauzia Naseem shad
देव शयनी एकादशी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पिता
Saraswati Bajpai
ग़ज़ल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
याद तेरी फिर आई है
Anamika Singh
पितृ वंदना
मनोज कर्ण
मजबूर ! मजदूर
शेख़ जाफ़र खान
आजादी अभी नहीं पूरी / (समकालीन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
टेढ़ी-मेढ़ी जलेबी
Buddha Prakash
ज़िंदगी को चुना
अंजनीत निज्जर
गरीबी पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
मेरी अभिलाषा
Anamika Singh
Loading...