Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 3, 2017 · 1 min read

नेता जी को चढ़ा बुखार क्यूंकि चुनाव पड़े है अबकी बार

नेता जी को चढ़ा बुखार
क्यूंकि चुनाव पड़े है अबकी बार
गड़े मुद्दे नेता जी ने दिये उखाड़
हिन्दू मुस्लिम जात – पात का मुदा
नेता जी ने दिया उतार
याद आया जनता का द्वार
पिछले मुद्दे हुए दरकिनार
बेशर्म बने फिर अबकी बार
5 साल के शासन में किया खूब भ्रष्टाचार
इंसानों को दिया शूली में दिया उतार
वोट बैंक किया तैयार
झूठे वादों की करी भरमार
बाबाओं से करी गुहार
चार दिन की चाँदनी में ईद समझ
गरीबों की थाली में खाना परोसा मेरे यार
चुनाव के दिनों में याद आया जनता का द्वार
क्या इन्हें भूलने की बीमारी है मेरे यार ?
चुनावी मेंढक है क्या ये यार ?
पांच साल चोरी कर खड़े हो जाते चुनाव में हर बार
हाथ फैलाये खड़े हो जाते जनता के द्वार
ऐसे ही चलता नेताओं का व्यपार
भ्रष्टाचार से लिप्त इनकी कुर्सी है यार
सत्ता के लोभी,चुनावी मेंढक याए है द्वार
भोली जनता जरा करो विचार

भूपेंद्र रावत
9/03/2017

1 Like · 450 Views
You may also like:
रहे इहाँ जब छोटकी रेल
आकाश महेशपुरी
मां की ममता
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
उतरते जेठ की तपन / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
टोकरी में छोकरी / (समकालीन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ठोकरों ने समझाया
Anamika Singh
बाबा साहेब जन्मोत्सव
Mahender Singh Hans
ऐसे थे पापा मेरे !
Kuldeep mishra (KD)
बदल जायेगा
शेख़ जाफ़र खान
पितु संग बचपन
मनोज कर्ण
"सूखा गुलाब का फूल"
Ajit Kumar "Karn"
सिद्धार्थ से वह 'बुद्ध' बने...
Buddha Prakash
✍️प्यारी बिटिया ✍️
Vaishnavi Gupta
जो दिल ओ ज़ेहन में
Dr fauzia Naseem shad
अब भी श्रम करती है वृद्धा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
चलो दूर चलें
VINOD KUMAR CHAUHAN
क्या लगा आपको आप छोड़कर जाओगे,
Vaishnavi Gupta
पिता
Ram Krishan Rastogi
हवा-बतास
आकाश महेशपुरी
बारिश की बौछार
Shriyansh Gupta
* सत्य,"मीठा या कड़वा" *
मनोज कर्ण
प्यार
Anamika Singh
पिता की याद
Meenakshi Nagar
गर्मी का कहर
Ram Krishan Rastogi
🥗फीका 💦 त्यौहार💥 (नाट्य रूपांतरण)
पाण्डेय चिदानन्द
गोरे मुखड़े पर काला चश्मा
श्री रमण 'श्रीपद्'
दिल ज़रूरी है
Dr fauzia Naseem shad
ठोडे का खेल
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पापा करते हो प्यार इतना ।
Buddha Prakash
इसलिए याद भी नहीं करते
Dr fauzia Naseem shad
नदी की अभिलाषा / (गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Loading...