Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

नेटवर्किंग की दुनिया

बात कम कीजै,वाट्सप चलाए रहिये
फेसबुक की दुनिया में खुद को जमाए रहिये।
ट्विटर पे हर घड़ी फाँलोवर मिलेंगे आपको
इंस्टाग्राम को खुद की फोटोज से सजाये रहिये।
व्यस्तता लाख सही, कम न कीजै सक्रियता
ग्राफ लोकप्रियता हर घड़ी बढाए रहिये।
हर शख्स अनजान है नहीं यहाँ पहचान है
रिश्ता इंसानियत दोस्ती बनाये रहिये।
मुश्किलें तो जिन्दगी की, कम नहीं होंगी यहाँ
दो पल की है जिन्दगी अलख खुशी जगाये रहिये।
ऐ नेटवर्किंग की दुनिया, है आपका घर नहीं
रंग अपने पोस्ट का हर घड़ी चढाये रहिये।
देश दुनिया पे कभी, कभी लिखीये धर्म के नाम पर
मध्य में फिर हास्य का रंग तनिक बिखराये रहिये।
गम हो या, हो खुशी; सब में बट जाता है
नेट पैक डालिये; मिलते और मिलाते रहिये।
लाईक व कमेंट से, खुशियों का है वास्ता
सहज सुन्दर पोस्ट से प्रोफाइल सजाये रहिये।
©®प.संजीव शुक्ल “सचिन”

249 Views
You may also like:
आपसा हम जो दिल
Dr fauzia Naseem shad
🥗फीका 💦 त्यौहार💥 (नाट्य रूपांतरण)
पाण्डेय चिदानन्द
गुलामी के पदचिन्ह
मनोज कर्ण
"कुछ तुम बदलो कुछ हम बदलें"
Ajit Kumar "Karn"
"फिर से चिपको"
पंकज कुमार कर्ण
गरम हुई तासीर दही की / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Nurse An Angel
Buddha Prakash
माँ, हर बचपन का भगवान
Pt. Brajesh Kumar Nayak
इश्क़ में जूतियों का भी रहता है डर
आकाश महेशपुरी
बेटी को जन्मदिन की बधाई
लक्ष्मी सिंह
हम सब एक है।
Anamika Singh
प्रेम रस रिमझिम बरस
श्री रमण 'श्रीपद्'
थोड़ी सी कसक
Dr fauzia Naseem shad
बूँद-बूँद को तरसा गाँव
ईश्वर दयाल गोस्वामी
गाऊँ तेरी महिमा का गान (हरिशयन एकादशी विशेष)
श्री रमण 'श्रीपद्'
✍️जिंदगानी ✍️
Vaishnavi Gupta
यादें
kausikigupta315
जब चलती पुरवइया बयार
श्री रमण 'श्रीपद्'
गोरे मुखड़े पर काला चश्मा
श्री रमण 'श्रीपद्'
माँ की परिभाषा मैं दूँ कैसे?
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
फिर भी वो मासूम है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
कुछ और तो नहीं
Dr fauzia Naseem shad
बाबूजी! आती याद
श्री रमण 'श्रीपद्'
✍️जरूरी है✍️
Vaishnavi Gupta
गाँव की साँझ / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता अब बुढाने लगे है
n_upadhye
सच और झूठ
श्री रमण 'श्रीपद्'
पितु संग बचपन
मनोज कर्ण
जाने क्या-क्या ? / (गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मेरा गांव
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Loading...