Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

नेकी कर इंटरनेट पर डाल

“ नेकी कर इंटरनेट पर डाल “

आजकल सोशल मीडिया पर उफान चल रहा हैं ! यूं कहें तो दुनिया वायरल के दरिया में डूबी हुई हैं ! सभी सामानों का सेंसेक्स शून्य पर हैं ! ऐसे में एक चीज़ का चलन सातवें आसमान पर हैं वो हैं – चैरिटी की चाहत ! सब अपनी करनी पार उतरने को उतावले हैं । हरेक के मन में चैरिटी का भाव हिलोरें ले रहा है, ले भी क्यों ना ? चैरिटी मनुष्य चरित्र का एंटिक गुण जो ठहरा ? सच में सदियों का साथ रहा हैं उदारता और मानव का ! लेकीन कालांतर में चावार्क अवतरित हुए तो मानव मन में उदारी के साथ उधारी का भी चोली दामन का रिश्ता जुड़ गया ! धीरे धीरे उदारीकरण का दौर आया और उधारी फेविकोल का जोड़ बनकर उभरा-जो ना टूटेगा ना छूटेगा ! जब तक मानव हैं उधारी का भाव चराचर में चलेगा और दोड़ेगा !
उदारता के कारण गरीबों के गिरेहबान में झांकने वाले लोगो की लाइन खड़ी हुई हैं ! एक को बुलावो पांच हाजिर होते हैं ! कुछ कर गुजरने की कशमकश ने निठल्लो के पैरों में भी घुंघरू बांध दिये हैं ! महामारी और हारी बीमारी की घनघोर घटाओं में भले लोगों की सद्भावना बिजली की तरह चमक रही हैं ! चमचमाती नई पोशाक पहने समाजसेवियों की फ़ौज कुकरमुत्तो की भांति उग आई हैं ! ये गरीबों में नाज नोन तेल दोड़-दोड़ कर बाँट रहे हैं ! कोई पशुओ को चारा खिला रहा हैं ! जीवो और जीने दो का भाव चारों ओर चरितार्थ हो रहा हैं ! सब कुछ सामाजिक समरसता का सुखद अहसास हैं !
हमारे मोहल्ला में उधार लेकर घी पीने वाले कालू भाई को भी चैरिटी का चस्का चढ़ आया है ! सुबह-सुबह बाजार चल दिये ! कालू भाई ने ज्योंही भारी भरकम लिस्ट आगे बढ़ाई ! फलवाले ने लिस्ट लेकर देखी और कालू भाई के साथ आये दस लोगो को एकटक निहारा ! फलवाले के होश फाख्ता हो गये ! एक साथ पूरे अढाई किलो केलों का ऑर्डर ! बेचारा भावनाओ के भंवर में गोते खाने लगा ! वहाँ से केले लेकर निकली टोली ने दिन भर में सारे केले बांट दिये ! सबके मन में एक भाव- वाकई नेकी कर कुए में डाल । उदारता वाले पुरुषो में शुमार कालू भाई नमनीय हैं !
इतने में जेब में पड़ा मोबाइल गुर्राया ! मैंने ज्योंही व्हाट्सएप्प,फेसबुक ,इन्स्टाग्राम की देहरी पर दस्तक दी ! आँखे चुंधिया गई ! सोशल मीडिया के हर प्लेटफार्म पर चैरिटी की हजारों,लाखों फोटो ,वीडियो वायरल हो रहे हैं ! इनमे कालू भाई और उनके साथियों की फोटो भी ट्रैंड कर रही हैं ! कालू भाई नेकी कर कुए में डाल के मोडिफाई रूप नेकी कर नेट पर डाल को मानते हैं ! वे सात समाजसेवी साथियों संग एक गरीब को केला देकर पुण्य कमा रहे हैं ! केप्शन में एक पंक्ति टंगी हैं – चिड़ी चोँच भर ले गई नदी न घटियों नीर ! दिये धन ना घटे कह गये दास कबीर !!

© हरीश सुवासिया
आर.ई.एस.
देवली कलां (पाली)
9784403104

2 Likes · 4 Comments · 84 Views
You may also like:
मोतियों की सुनहरी माला
DESH RAJ
काबुल का दंश
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
कविता " बोध "
vishwambhar pandey vyagra
गाँव के रंग में
सिद्धार्थ गोरखपुरी
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता है। [भाग ७]
Anamika Singh
ऐ जिंदगी।
Taj Mohammad
सद्आत्मा शिवाला
Pt. Brajesh Kumar Nayak
पिता का कंधा याद आता है।
Taj Mohammad
महंगाई के दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सजना शीतल छांव हैं सजनी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पिता
Saraswati Bajpai
स्वादिष्ट खीर
Buddha Prakash
सगुण
DR ARUN KUMAR SHASTRI
पिता का दर्द
Anamika Singh
Born again with love...
Abhineet Mittal
धार्मिक उन्माद
Rakesh Pathak Kathara
आतुरता
अंजनीत निज्जर
“IF WE WRITE, WRITE CORRECTLY “
DrLakshman Jha Parimal
बसन्त बहार
N.ksahu0007@writer
बदल कर टोपियां अपनी, कहीं भी पहुंच जाते हैं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
✍️अहज़ान✍️
"अशांत" शेखर
जिन्दगी की रफ़्तार
मनोज कर्ण
न्याय
Vijaykumar Gundal
उमीद-ए-फ़स्ल का होना है ख़ून लानत है
Anis Shah
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
ये जमीं आसमां।
Taj Mohammad
आज की पत्रकारिता
Anamika Singh
करोना
AMRESH KUMAR VERMA
जुबान काट दी जाएगी - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
दीया तले अंधेरा
Vikas Sharma'Shivaaya'
Loading...