Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jan 2024 · 1 min read

बाल नृत्य नाटिका : कृष्ण और राधा

दृश्य
बाल कृष्ण अपने सखाओं के संग और राधिका मार्ग में गोपियों के संग
छम-छम, छम-छम बाजे पायल,राधा के संग आये श्यामल
पीछे सारे गोपी गण हैं , बने प्रतीक्षित बृन्दावन है …………..

राधा उवाच : चोरी की तो आदत तोहे,रोज ही मैया बांधत तोहे
सारी गैयाँ राह निहारे, कान्हा तू अब, जा-रे. जा- रे …………

कृष्णा उवाच : जाऊं कैसे गोरी तोहरे बिन, गाये बंसुरिया न देवत धुन
नीला पानी तोहे बुलावे, कादम्ब की तू भाषा सुन…………

राधा उवाच : कहे कान्हा तू ऐसे छेड़े, माखन के तू मटके फोड़े
आज नहीं मैं तुम संग खेलूं, पल भर में मोहे जाना मन है ……..

कृष्णा उवाच : सुन ओ राधिके मन बतियाँ, हम संग खेलत तेरी सखियाँ
एक कन्हैया तुमको ध्यावे, एक राधिका ही मन को भावे

राधा उवाच : सुन ओ नटवर न मैं रीझूं, न ही हृदय के भाव कुरेंदु
लैके सबरौ सांचो माखन, जाना मोहे नन्द अंगन है ……..

कृष्णा उवाच : ठीक राधिके तो मैं लौटूं ,प्रेम के पट को काहे खोलूं
तुम हो गोरी कृष्णा मैं हूँ, काहे कुञ्ज में तुम संग खेलूं …….

राधा उवाच : रूठे काहे नन्द किशोर, छेड़े काहे कुञ्ज के भोर
काहे तू होवत मन व्याकुल, तन में तेरे मेरा मन है ……….
परिणति
मेरे मन भी एक किशन है ,तू ही कान्हा मेरा मन है
तन में तेरे मेरा मन है, मेरे मन भी एक किशन है…..
………………………………………………………………

9 Likes · 4 Comments · 326 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr.Pratibha Prakash
View all
You may also like:
आपकी सादगी ही आपको सुंदर बनाती है...!
आपकी सादगी ही आपको सुंदर बनाती है...!
Aarti sirsat
" बहुत बर्फ गिरी इस पेड़ पर
Saraswati Bajpai
माँ तो आखिर माँ है
माँ तो आखिर माँ है
Dr. Kishan tandon kranti
प्रभु राम नाम का अवलंब
प्रभु राम नाम का अवलंब
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मृत्यु पर विजय
मृत्यु पर विजय
Mukesh Kumar Sonkar
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Neeraj Agarwal
नारी सम्मान
नारी सम्मान
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
*** हम दो राही....!!! ***
*** हम दो राही....!!! ***
VEDANTA PATEL
आहटें तेरे एहसास की हवाओं के साथ चली आती हैं,
आहटें तेरे एहसास की हवाओं के साथ चली आती हैं,
Manisha Manjari
पंचतत्वों (अग्नि, वायु, जल, पृथ्वी, आकाश) के अलावा केवल
पंचतत्वों (अग्नि, वायु, जल, पृथ्वी, आकाश) के अलावा केवल "हृद
Radhakishan R. Mundhra
विचारों की सुन्दरतम् प्रस्तुति का नाम कविता
विचारों की सुन्दरतम् प्रस्तुति का नाम कविता
कवि रमेशराज
💐अज्ञात के प्रति-131💐
💐अज्ञात के प्रति-131💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
■ आज का चिंतन
■ आज का चिंतन
*Author प्रणय प्रभात*
छोड़ दो
छोड़ दो
Pratibha Pandey
*मिलना जग में भाग्य से, मिलते अच्छे लोग (कुंडलिया)*
*मिलना जग में भाग्य से, मिलते अच्छे लोग (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
मययस्सर रात है रोशन
मययस्सर रात है रोशन
कवि दीपक बवेजा
!! फूल चुनने वाले भी‌ !!
!! फूल चुनने वाले भी‌ !!
Chunnu Lal Gupta
“ अपने जन्म दिनों पर मौन प्रतिक्रिया ?..फिर अरण्यरोदन क्यों ?”
“ अपने जन्म दिनों पर मौन प्रतिक्रिया ?..फिर अरण्यरोदन क्यों ?”
DrLakshman Jha Parimal
Ajeeb hai ye duniya.......pahle to karona se l ladh rah
Ajeeb hai ye duniya.......pahle to karona se l ladh rah
shabina. Naaz
देव उठनी
देव उठनी
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
बारिश की बूंदों ने।
बारिश की बूंदों ने।
Taj Mohammad
హాస్య కవిత
హాస్య కవిత
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
* जिन्दगी *
* जिन्दगी *
surenderpal vaidya
गजल
गजल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
आत्महत्या
आत्महत्या
Harminder Kaur
तेरे जाने के बाद ....
तेरे जाने के बाद ....
ओनिका सेतिया 'अनु '
देखते देखते मंज़र बदल गया
देखते देखते मंज़र बदल गया
Atul "Krishn"
एक महिला से तीन तरह के संबंध रखे जाते है - रिश्तेदार, खुद के
एक महिला से तीन तरह के संबंध रखे जाते है - रिश्तेदार, खुद के
Rj Anand Prajapati
तुम्हें आभास तो होगा
तुम्हें आभास तो होगा
Dr fauzia Naseem shad
"ओट पर्दे की"
Ekta chitrangini
Loading...