Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Apr 28, 2022 · 1 min read

नूर

बिजली सी गिराई क्यूँ तुमने
इन शोख नज़र से इशारों की ,
कभी नज़र न लग जाए यूँ ही
इस ज़मीं को चाँद सितारों की,
कहीं बहक न जाऊं मस्ती में
महफ़िल में पुराने यारों की ,
यादों से महका दिल का चमन
हो फिक्र किसे फिर बहारों की ,
तुम नूर सी बसी निगाहों में
फिर कमी हो कैसे नज़ारों की ,
धड़कोगी जब तक धड़कन में
चाहत नहीं किसी सहारे की ,

90 Views
You may also like:
सिपाही
Buddha Prakash
जब वो कृष्णा मेरे मन की आवाज़ बन जाता है।
Manisha Manjari
# उम्मीद की किरण #
Dr. Alpa H. Amin
तुम्हीं हो मां
Krishan Singh
प्रिय
D.k Math
** दर्द की दास्तान **
Dr. Alpa H. Amin
Fast Food
Buddha Prakash
"ईद"
Lohit Tamta
और कितना धैर्य धरू
Anamika Singh
चोरी चोरी छुपके छुपके
gurudeenverma198
भाइयों के बीच प्रेम, प्रतिस्पर्धा और औपचारिकताऐं
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
भगवान हमारे पापा हैं
Lucky Rajesh
आदर्श ग्राम्य
Tnmy R Shandily
आ सजाऊँ भाल पर चंदन तरुण
Pt. Brajesh Kumar Nayak
लोभ
AMRESH KUMAR VERMA
✍️पुरानी रसोई✍️
"अशांत" शेखर
नफरत की राजनीति...
मनोज कर्ण
✍️सियासत✍️
"अशांत" शेखर
'पिता' संग बांटो बेहद प्यार....
Dr. Alpa H. Amin
बहाना
Vikas Sharma'Shivaaya'
प्रकाशित हो मिल गया, स्वाधीनता के घाम से
Pt. Brajesh Kumar Nayak
अल्फाज़ ए ताज भाग-4
Taj Mohammad
खूबसूरत एहसास.......
Dr. Alpa H. Amin
सहारा
अरशद रसूल /Arshad Rasool
पत्नी जब चैतन्य,तभी है मृदुल वसंत।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
'' पथ विचलित हिंदी ''
Dr Meenu Poonia
पनघट और मरघट में अन्तर
Ram Krishan Rastogi
अक्षय तृतीया की हार्दिक शुभकामनाएं
sheelasingh19544 Sheela Singh
मुक्तक- उनकी बदौलत ही...
आकाश महेशपुरी
ढह गया …
Rekha Drolia
Loading...