Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

नीड़ का निर्माण

बीज बनकर नीड़ में तुम,
वृक्ष का निर्माण कर दो ।।
व्यथित ब्याकुल वीथियों में ,
प्यार का संचार कर दो ।।

बचपने से राजकुल में ,
जी रहे थे शान बनकर ।
आज इस अकिंचन के घर में,
ज्योति बनकर प्राण भर दो ।।

बीज बनकर———————-

सौम्य की गरिमा से अपनी ,
नेह को ब्याकुल बना दो ।
चन्द्रमाँ की चांदनी सा,
घर मेरा उज्ज्वल बना दो ।

जिंदगी की राह में अब,
मार्ग कितना भी कठिन हो ।
जीत लें हंसकर सभी हम,
मुझमें वह उल्लास भर दो ।।

बीज बनकर नीड़ में तुम,
वृक्ष का निर्माण कर दो।।

243 Views
You may also like:
नदी को बहने दो
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
सही-ग़लत का
Dr fauzia Naseem shad
एसजेवीएन - बढ़ते कदम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
रावण का प्रश्न
Anamika Singh
दिल का यह
Dr fauzia Naseem shad
कोई मरहम
Dr fauzia Naseem shad
इस तरह
Dr fauzia Naseem shad
बिछड़ कर किसने
Dr fauzia Naseem shad
पितृ स्वरूपा,हे विधाता..!
मनोज कर्ण
कभी ज़मीन कभी आसमान.....
अश्क चिरैयाकोटी
जो दिल ओ ज़ेहन में
Dr fauzia Naseem shad
अब भी श्रम करती है वृद्धा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
💔💔...broken
Palak Shreya
अनमोल राजू
Anamika Singh
मेरी उम्मीद
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
ऐसे थे पापा मेरे !
Kuldeep mishra (KD)
पढ़वा लो या लिखवा लो (शिक्षक की पीड़ा का गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जाने कैसा दिन लेकर यह आया है परिवर्तन
आकाश महेशपुरी
प्यार
Anamika Singh
पिता की याद
Meenakshi Nagar
पितृ वंदना
संजीव शुक्ल 'सचिन'
कैसा हो सरपंच हमारा / (समसामयिक गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता
Meenakshi Nagar
मेरे पापा
Anamika Singh
The Sacrifice of Ravana
Abhineet Mittal
कुछ नहीं
Dr fauzia Naseem shad
समसामयिक बुंदेली ग़ज़ल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बुन रही सपने रसीले / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
गाऊँ तेरी महिमा का गान (हरिशयन एकादशी विशेष)
श्री रमण 'श्रीपद्'
✍️आशिकों के मेले है ✍️
Vaishnavi Gupta
Loading...