Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

नीति के दोहे

*दोहे*
पचा रहे कल्मष कठिन, कलि के भोजन भट्ट।
धर्म चीखता रह गया, अद्भुत यह संघट्ट।

खाने को जीता जगत, नहीं धर्म से काम।
बना हुआ पशु तुल्य यह, भटक रहा अविराम।

राजनीति के खेल में, लगे दाँव पर राम।
उल्लू सब सीधा करें ,किसको किससे काम।

उल्लुओं के देश में, कहाँ हंस निर्दोष।
वहाँ सू्र्य- अस्तित्व का, झूठा ही निर्घोष।

रोजी – रोटी तब सही, सने धर्म के रंग।
धर्म बेचकर कब रहा, जीवन का शुचि ढंग।

आडंबर में क्या रखा, छोड़ो कपट लगाम।
सौ यज्ञों से श्रेष्ठ है, एक राम का नाम।

शास्त्र ज्ञान निस्सार है, जहाँ कुमति का संग।
कीचड़ में गिर हंस के , बदले प्रायः रंग।

शूद्र बुध्दि करने लगे, अगर धर्म उपदेश।
शांति, स्थैर्य, उत्थान सब,तज देगें वह देश।

है अबोध स्वार्थी हठी, क्रन्दन ही आघात।
लोगो अधिक न मानिये, लघु लाला की बात।

शीश लोभ नेत्रत्व का, पीछे खल समुदाय।
उसे दुष्ट ही जानिये, दूषण हृदय समाय।

जहाँ लूट कर यज्ञ हो, कभी न खाओ भोग।
वह विष्टा के तुल्य है, सुख से करे वियोग।

श्रध्दा के घृत से सदा, बनता भोग प्रसाद।
पाप पूर्ण तो यज्ञ भी, देता है अवसाद।

कभी न माँ को बेचकर, होता जग में श्राध्द।
ऐसा भोजन जो करें, वे अवनति को बाध्द।

भण्डारे में कम पडे, अगर लूट के दाम।
अपनी माँ के भी करो , गहनों को नीलाम।

कहो कहाँ का धर्म है, ऋण से कर घी पान।
हो समर्थ यदि तुम स्वयं, तब ही करना दान।।

दिया दान फिर से कभी, दिया न जाता दान।
दुष्टों का निर्णय कभी, कर न सके कल्यान।

अंकित शर्मा ‘इषुप्रिय’
रामपुर कलाँ, सबलगढ़(म.प्र.)

1 Like · 368 Views
You may also like:
अहसास
Vikas Sharma'Shivaaya'
माँ (खड़ी हूँ मैं बुलंदी पर मगर आधार तुम हो...
Dr Archana Gupta
बुंदेली दोहा- गुदना
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
*अमूल्य निधि का मूल्य (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
हाँ, अब मैं ऐसा ही हूँ
gurudeenverma198
भूले बिसरे गीत
RAFI ARUN GAUTAM
स्थापना के 42 वर्ष
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
वैवाहिक वर्षगांठ मुक्तक
अभिनव मिश्र अदम्य
गर हमको पता होता।
Taj Mohammad
शिक्षा संग यदि हुनर हो...
मनोज कर्ण
इन्सानों का ये लालच तो देखिए।
Taj Mohammad
🙏मॉं कालरात्रि🙏
पंकज कुमार "कर्ण"
उत्साह एक प्रेरक है
Buddha Prakash
दिल,एक छोटी माँ..!
मनोज कर्ण
गुज़र रही है जिंदगी...!!
Ravi Malviya
अनजान बन गया है।
Taj Mohammad
रामे क बरखा ह रामे क छाता
Dhirendra Panchal
संघर्ष
Anamika Singh
पर्यावरण बचाओ रे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
धरती कहें पुकार के
Mahender Singh Hans
तल्खिय़ां
Anoop Sonsi
"मुश्किल वक़्त और दोस्त"
Lohit Tamta
पिता
Vandana Namdev
नींबू की चाह
Ram Krishan Rastogi
बिछड़न [भाग २]
Anamika Singh
चेहरा
शिव प्रताप लोधी
बहन का जन्मदिन
Khushboo Khatoon
दुनिया पहचाने हमें जाने के बाद...
Dr. Alpa H. Amin
विलुप्त होती हंसी
Dr Meenu Poonia
बगिया जोखीराम में श्री चंद्र सतगुरु की आरती
Ravi Prakash
Loading...