Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Apr 9, 2022 · 1 min read

नीड़ फिर सजाना है

आज फिर से मन को मेरे
हौंसला जुटाना है ।
सांसे अगर है साथ तो
नीड़ फिर सजाना है ।
झंझावातों ने नीड़ की
प्राचीर भेद डाली है ।
स्रोत टूटे नीड़ के सब
अब दोनों हाथ खाली हैं ।
वात हुई शान्त अब
अवशेष सा कुछ दिख रहा ।
बिखरा हुआ साहस मेरा
तुमसे सांसे भर रहा ।
स्वप्न सब गुमसुम हुए
दूर अति दुबके खड़े है ।
संवेदनाएं तार तार सब
अश्रु निर्झर झर रहे हैं ।
कहने को बस था नीड़ वो
जीवन का मेरे सार था ।
अपने थे सब साथ में
इन सबसे ही संसार था ।

1 Like · 4 Comments · 100 Views
You may also like:
✍️KITCHEN✍️
"अशांत" शेखर
तुम थे पास फकत कुछ वक्त के लिए।
Taj Mohammad
पिता की छाँव...
मनोज कर्ण
जाने क्यों वो सहमी सी ?
Saraswati Bajpai
दर्द का अंत
AMRESH KUMAR VERMA
और कितना धैर्य धरू
Anamika Singh
उत्तर प्रदेश दिवस
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सम्भव कैसे मेल सखी...?
पंकज परिंदा
नेता और मुहावरा
सूर्यकांत द्विवेदी
मां का आंचल
VINOD KUMAR CHAUHAN
तुम्हारा हर अश्क।
Taj Mohammad
आकर मेरे ख्वाबों में, पर वे कहते कुछ नहीं
Ram Krishan Rastogi
.✍️स्काई इज लिमिटच्या संकल्पना✍️
"अशांत" शेखर
✍️✍️असर✍️✍️
"अशांत" शेखर
'पिता' संग बांटो बेहद प्यार....
Dr. Alpa H. Amin
✍️मैंने पूछा कलम से✍️
"अशांत" शेखर
कब आओगे
dks.lhp
पहचान लेना तुम।
Taj Mohammad
तुझे वो कबूल क्यों नहीं हो मैं हूं
Krishan Singh
गंगा दशहरा गंगा जी के प्रकाट्य का दिन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पिता
Vijaykumar Gundal
दिनांक 10 जून 2019 से 19 जून 2019 तक अग्रवाल...
Ravi Prakash
" मैं हूँ ममता "
मनोज कर्ण
पिता हिमालय है
जगदीश शर्मा सहज
बनकर कोयल काग
Jatashankar Prajapati
💐💐प्रेम की राह पर-17💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
तन्हा ही खूबसूरत हूं मैं।
शक्ति राव मणि
महँगाई
आकाश महेशपुरी
पिता की नसीहत
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पर्यावरण
सूर्यकांत द्विवेदी
Loading...