Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#6 Trending Author
Apr 15, 2022 · 1 min read

नींबू के मन की वेदना

नींबू के मन के वेदना
****************
कब तक तुम मुझको दरवाज़े पर लटकाओगे।
मेरे भी कुछ अरमान है,कब तक मुझे सताओगे।।

मैने किए बहुत उपकार बुरी नजरों से बचाया है।
खुद लटक कर मैने ही आज तक बचाया है।।

मै ही था जो मिरचो के संग भी मिल जाता था।
सबको ही मै बुरी नजरो से हर दम बचाता था।।

मैने क्या गुनाह किए हैं,जो मुझे ही फांसी देते हो।
मेरे जैसे और भी है,उनको कुछ नही कहते हो।।

नींबू पानी की जगह,लोग कोल्ड्र ड्रिंक पीते है।
नींबू पानी पीने वालों को हम पिछड़ा कहते है।।

मेरे बिन कोई भी चाट पकोड़ी नही होती है पूरी।
सलाद भी मेरे बिन सबको लगती आधी अधूरी।।

मेरा भी कुछ सम्मान है,मेरा भी कुछ है गरुर।
इसलिए आज हो गया हूं सबकी पहुंच से दूर।।

मै ही दूध को फाड़कर उसके टुकड़े कर देता हूं।
फाड़ कर दूध को पनीर का स्वाद में ही देता हूं।।

बंद करो मुझको लटकाना,ये सलाह सबको देता हूं।
वरना मैं भी अपनी कीमत को आसमान से छूता हूं।।

आर के रस्तोगी गुरुग्राम

1 Like · 1 Comment · 133 Views
You may also like:
आंचल में मां के जिंदगी महफूज होती है
VINOD KUMAR CHAUHAN
** शरारत **
Dr. Alpa H. Amin
'माँ मुझे बहुत याद आती हैं'
Rashmi Sanjay
समय
AMRESH KUMAR VERMA
बचपन में थे सवा शेर
VINOD KUMAR CHAUHAN
सुंदर बाग़
DESH RAJ
पिता का महत्व
ओनिका सेतिया 'अनु '
भक्त कवि स्वर्गीय श्री रविदेव_रामायणी*
Ravi Prakash
खुदा ने जो दे दिया।
Taj Mohammad
मेरा सुकूं चैन ले गए।
Taj Mohammad
*रामपुर रजा लाइब्रेरी में रक्षा-ऋषि लेफ्टिनेंट जनरल श्री वी. के....
Ravi Prakash
पिता और एफडी
सूर्यकांत द्विवेदी
गृहणी का बुद्धत्व
पूनम कुमारी (आगाज ए दिल)
*योग (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
मेरी खुशी तुमसे है
VINOD KUMAR CHAUHAN
शहर को क्या हुआ
Anamika Singh
सपनों का महल
मनमोहन लाल गुप्ता अंजुम
योग है अनमोल साधना
Anamika Singh
सौ प्रतिशत
Dr Archana Gupta
पत्थर दिल।
Taj Mohammad
जावेद कक्षा छः का छात्र कला के बल पर कई...
Shankar J aanjna
"भोर"
Ajit Kumar "Karn"
पुस्तक समीक्षा
Rashmi Sanjay
जो देखें उसमें
Dr.sima
मां जैसा कोई ना।
Taj Mohammad
भगवान श्री परशुराम जयंती
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कुछ कहना है..
Vaishnavi Gupta
*जो हुकुम सरकार (गीतिका)*
Ravi Prakash
बेजुबान
Anamika Singh
नीति के दोहे 2
Rakesh Pathak Kathara
Loading...