Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#2 Trending Author
Apr 15, 2022 · 1 min read

नींबू की चाह

चाह नहीं मेरी,मिर्ची की साथ मै गूंथा जाऊं।
चाह नहीं मेरी,दरवाजे पर लटकाया जाऊं।।

चाह नहीं मेरी,नमक चीनी के साथ में घुल जाऊं।
चाह नहीं मेरी,मटर की चाट का स्वाद बन जाऊं।।

चाह नहीं मेरी,भूत प्रेत से मै पीछा छुड़वाऊं।
चाह नहीं मेरी,सबको बुरी नजरों से बचाऊं।।

चाह नहीं मेरी,सब्जी वालो को मैं अमीर बनाऊं।
चाह नहीं मेरी,नींबू के वृक्षों पर ही मैं लद जाऊं।।

चाह मेरी बस एक,उस रास्ते देना मुझको फेक।
जिस रास्ते जाते है,मेरे देश के सपूत वीर अनेक।।

बना सके मेरी शिकंजी,गर्मी व लू से वे बच पाए।
सीमा पर जाकर,शत्रु के दांत खट्टे करने वे जाए।।

आर के रस्तोगी गुरुग्राम

4 Likes · 5 Comments · 186 Views
You may also like:
हम भी है आसमां।
Taj Mohammad
सुकून सा ऐहसास...
Dr. Alpa H. Amin
पुस्तकों की पीड़ा
Rakesh Pathak Kathara
'परिवर्तन'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
*पद्म विभूषण स्वर्गीय गुलाम मुस्तफा खान साहब से दो मुलाकातें*
Ravi Prakash
जून की दोपहर (कविता)
Kanchan Khanna
मानव स्वरूपे ईश्वर का अवतार " पिता "  
Dr. Alpa H. Amin
# बोरे बासी दिवस /मजदूर दिवस....
Chinta netam " मन "
अल्फाज़ हैं शिफा से।
Taj Mohammad
मैं तेरा बन जाऊं जिन्दगी।
Taj Mohammad
हृदय का सरोवर
सुनील कुमार
क्या कहते हो हमसे।
Taj Mohammad
अश्रु देकर खुद दिल बहलाऊं अरे मैं ऐसा इंसान नहीं
VINOD KUMAR CHAUHAN
ईद की दिली मुबारक बाद
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
एहसासों के समंदर में।
Taj Mohammad
पिता
Ray's Gupta
*शंकर तुम्हें प्रणाम है (भक्ति-गीत)*
Ravi Prakash
अभी बाकी है
Lamhe zindagi ke by Pooja bharadawaj
यही है भीम की महिमा
Jatashankar Prajapati
बारिश हमसे रूढ़ गई
Dr. Alpa H. Amin
ग़ज़ल
Jitendra Kumar Noor
माता अहिल्याबाई होल्कर जयंती
Dalvir Singh
पानी का दर्द
Anamika Singh
पापा की परी...
Sapna K S
एक हम ही है गलत।
Taj Mohammad
मेरे पिता
Ram Krishan Rastogi
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
ऐसी बानी बोलिये
अरशद रसूल /Arshad Rasool
ऐ जिन्दगी
Anamika Singh
माहौल
AMRESH KUMAR VERMA
Loading...