Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 22, 2017 · 1 min read

निशानियाँ

कुछ कुछ चीजों को,इबादत से रखा जाता है ।
कुछ कुछ चीजों को,नजाकत से रखा जाता है ।।
कुछ लोग होते है,जो यूनिक होते है दूनियाँ में ।
उनकी चीजों को हमेशा,हिफाजत से रखा जाता है ।।

जब तक मुलाकात होती है,बनती हैं कहानियाँ ।
कुछ खट्टी मीठी तकरारों की,प्यार भरी जुबानियाँ ।।
सन्जों के रखें हैं अपने बीते हुये हर लम्हें को हम ।
जिसे बाद याद दिलाएगी,आपकी दी हुई हर निशानियाँ ।।

214 Views
You may also like:
गाँव की साँझ / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ऐसे थे पापा मेरे !
Kuldeep mishra (KD)
किसकी पीर सुने ? (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कुछ नहीं इंसान को
Dr fauzia Naseem shad
काफ़िर का ईमाँ
DEVSHREE PAREEK 'ARPITA'
अपने दिल को ही
Dr fauzia Naseem shad
.✍️वो थे इसीलिये हम है...✍️
'अशांत' शेखर
धरती की अंगड़ाई
श्री रमण 'श्रीपद्'
बरसात की छतरी
Buddha Prakash
जब भी तन्हाईयों में
Dr fauzia Naseem shad
गुमनाम मुहब्बत का आशिक
श्री रमण 'श्रीपद्'
संकुचित हूं स्वयं में
Dr fauzia Naseem shad
माँ (खड़ी हूँ मैं बुलंदी पर मगर आधार तुम हो...
Dr Archana Gupta
पिता
Kanchan Khanna
A wise man 'The Ambedkar'
Buddha Prakash
प्रेम में त्याग
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पितृ स्तुति
दुष्यन्त 'बाबा'
✍️बदल गए है ✍️
Vaishnavi Gupta
चंदा मामा बाल कविता
Ram Krishan Rastogi
अब आ भी जाओ पापाजी
संदीप सागर (चिराग)
पिता की नसीहत
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
देव शयनी एकादशी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
'दुष्टों का नाश करें' (ओज - रस)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
यादें वो बचपन के
Khushboo Khatoon
बेजुबान और कसाई
मनोज कर्ण
भूखे पेट न सोए कोई ।
Buddha Prakash
रंग हरा सावन का
श्री रमण 'श्रीपद्'
मन
शेख़ जाफ़र खान
इज़हार-ए-इश्क 2
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
【6】** माँ **
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
Loading...