Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Sep 2, 2021 · 2 min read

निशब्द

कभी कभी ये समझना बहोत कठिन हो जाता है की हमें क्या हुआ है जिस तरह से आज हम तनाव मे रहते है ज़िन्दगी हम अपनी ही कम कर रहे है आज सुना की एक टीवी कलाकार की मृत्यु हो गई heart attack से l
बहोत मामुली बात हो गई है attack आना, अब उमर
मायने नही रखती,ज़रूरी ये है की सही वक़्त पर समझ लिया जाये की हमें कोई तकलीफ तो नही हो रही कई बार हम सोचते है की ठीक हो ज़ायेंगे पर इसका नतीजा कभी कभी भयानक होता है l
बीते 7 दिनो से मेरे तबियत कुछ खराब थी तो लगा शायद थकान हैं सर दर्द हुआ तो सोचा तनाव है गुस्सा ज्यादा आने लगा
मूड स्विंग ज्यादा होने लगे….फिर अचानक दो दिन पहले मुझे सीने मे दर्द हुआ दर्द थोड़ा था तो लगा ठीक हो जायेगा पर कल रात ये दर्द ज्यादा होने लगा सांस लेने मे तकलीफ हुई ,सीने मे कुछ अटका है ऐसा लगा फिर मेने जब ये बात हसबेंड को बताई तो वो बोले रात को देर तक जागते हो इस वजह से हो रहा सो जाओ पर दर्द के कारन नींद नही लग रही थी और जब मेरी आंखे खुली तो वो एक होस्पिटल था मुझे पता ही नही की क्या हुआ था पर जो सुना उस से इतना पता था की मैं बेहोश हो गई थी और report आने पर पता चला की heartattack आया था l
मैं अभी भी अच्छा फील नही कर रही हूँ पता नही की अगले पल क्या हो बस आप सभी को यही कहना है की अपनी किसी भी तकलीफ को मामूली ना ले l
जिनको मुझसे तकलीफ हुई है उनसे हाथ जोड़कर माफी….खुश रहिए

2 Likes · 150 Views
You may also like:
बाबा भैरण के जनैत छी ?
श्रीहर्ष आचार्य
खेसारी लाल बानी
Ranjeet Kumar
हृदय का सरोवर
सुनील कुमार
गर्भस्थ बेटी की पुकार
Dr Meenu Poonia
क्यों भिगोते हो रुखसार को।
Taj Mohammad
हम पे सितम था।
Taj Mohammad
बुंदेली दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
देशभक्ति के पर्याय वीर सावरकर
Ravi Prakash
【11】 *!* टिक टिक टिक चले घड़ी *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
विधाता स्वरूप पिता
AMRESH KUMAR VERMA
उफ्फ! ये गर्मी मार ही डालेगी
Deepak Kohli
हम पर्यावरण को भूल रहे हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
भ्राता - भ्राता
Utsav Kumar Vats
एहसासात
Shyam Sundar Subramanian
पितृ स्वरूपा,हे विधाता..!
मनोज कर्ण
मेरी प्रिय कविताएँ
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
पारिवारिक बंधन
AMRESH KUMAR VERMA
जिंदगी क्या है?
Ram Krishan Rastogi
हम गीत ख़ुशी के गाएंगे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
वक्त रहते मिलता हैं अपने हक्क का....
Dr. Alpa H. Amin
अंतरराष्ट्रीय योग दिवस
Ram Krishan Rastogi
मां-बाप
Taj Mohammad
कन्या रूपी माँ अम्बे
Kanchan Khanna
कविता में मुहावरे
Ram Krishan Rastogi
पिता क्या है?
Varsha Chaurasiya
नहीं चाहता
सिद्धार्थ गोरखपुरी
आनंद अपरम्पार मिला
श्री रमण
परीक्षा को समझो उत्सव समान
ओनिका सेतिया 'अनु '
💐मौज़💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
एक दौर था हम भी आशिक हुआ करते थे
Krishan Singh
Loading...