Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jan 26, 2017 · 1 min read

निर्लज्ज राजनीति

तांका मालिका .. राजनीति
********

राजनीति तो
बन गयी निर्लज्ज
शर्म गायब
लिहाज़ भी ग़ायब
स्वार्थ हुआ सर्वोच्च

सिद्धांत वोह
किसका है ये नाम
ईमानदारी
कैसी चिड़िया होती
स्वार्थ साधो अपना

बाप बेटा हो
या वो चाचा भतीजा
न कोई रिश्ता
रहा महत्वपूर्ण
अपनी गोटी लाल

जनता बनीं
वोट बटीं जातियाँ
उन्हें लड़ाओ
मार काट कराओ
ध्रुवीकरण होता

हमें जीतना
येन केन प्रकारेण
युद्ध या प्यार
सब कुछ जायज़
निर्लज़्ज़ राजनीति

देश को बाँटा
धर्म..भाषा..क्षेत्र..में
आरक्षण में
अगड़ा पिछड़ा में
फूट डालो सब में

फूट डालो औ
राज करो की नीति
अंग्रेजों की ही
अपनाई सबने
निर्लज़्ज़ राजनीति

173 Views
You may also like:
मिल जाने की तमन्ना लिए हसरत हैं आरजू
Dr.sima
न्याय
Vijaykumar Gundal
नित हारती सरलता है।
Saraswati Bajpai
बदला
शिव प्रताप लोधी
भगवान विरसा मुंडा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मायका
Anamika Singh
मैं मजदूर हूँ!
Anamika Singh
अल्फाज़ ए ताज भाग-5
Taj Mohammad
भगत सिंह का प्यार था देश
Anamika Singh
ईश्वरीय फरिश्ता पिता
AMRESH KUMAR VERMA
✍️पुरानी रसोई✍️
"अशांत" शेखर
जुद़ा किनारे हो गये
शेख़ जाफ़र खान
गुलमोहर
Ram Krishan Rastogi
जिंदगी की अभिलाषा
Dr. Alpa H. Amin
करते रहिये काम
सूर्यकांत द्विवेदी
समंदर की चेतावनी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कहने से
Rakesh Pathak Kathara
तेरे दिल में कोई साजिश तो नहीं
Krishan Singh
बचे जो अरमां तुम्हारे दिल में
Ram Krishan Rastogi
#मेरे मन
आर.एस. 'प्रीतम'
आज तिलिस्म टूट गया....
Saraswati Bajpai
मयंक के जन्मदिन पर बधाई
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
किसी और के खुदा बन गए है।
Taj Mohammad
गुुल हो गुलशन हो
VINOD KUMAR CHAUHAN
वह खूब रोए।
Taj Mohammad
✍️"सूरज"और "पिता"✍️
"अशांत" शेखर
घड़ी
AMRESH KUMAR VERMA
टिप्पणियों ( कमेंट्स) का फैशन या शोर
ओनिका सेतिया 'अनु '
"ज़ुबान हिल न पाई"
अमित मिश्र
कुछ ख़ास करते है।
Taj Mohammad
Loading...