Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Oct 2021 · 1 min read

“निरक्षर-भारती”

**********************************************
अक्षर-अक्षर जान लो।
पढ़ना-लिखना सीख लो।।

नया जमाना पहचान लो।
दस्तखत करना सीख लो।।

छोड़ो कल की बात पुरानी।
दुनिया है अब बड़ी सयानी।।

दुनिया की खबर जान लो।
अखबार पढ़ना सीख लो।।

सभी अनपढ़ को पढ़ना है।
जमाने के साथ चलना है।।

साक्षरता अभियान चलाना है।
हर ग्राम में ‘क्रान्ति’ लाना है।।

यह बड़े शर्म की बात है।
निरक्षर-भारती एक कलंक है।।

यह कलंक हमें! मिटाना है।
पूर्ण साक्षर भारत बनाना है।।
***************************
रचयिता: प्रभुदयाल रानीवाल=
===*उज्जैन*{मध्यप्रदेश}*====
***************************

Language: Hindi
1 Like · 2 Comments · 1948 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ग़ज़ल _रखोगे कब तलक जिंदा....
ग़ज़ल _रखोगे कब तलक जिंदा....
शायर देव मेहरानियां
रावण का मकसद, मेरी कल्पना
रावण का मकसद, मेरी कल्पना
Anamika Singh
साक्षात्कार- मनीषा मंजरी- नि:शब्द (उपन्यास)
साक्षात्कार- मनीषा मंजरी- नि:शब्द (उपन्यास)
Sahityapedia
दो फूल खिले खिलकर आपस में चहकते हैं
दो फूल खिले खिलकर आपस में चहकते हैं
Shivkumar Bilagrami
✍️क्या ये विकास है ?✍️
✍️क्या ये विकास है ?✍️
'अशांत' शेखर
कोशिशें तो की तुम्हे भूल जाऊं।
कोशिशें तो की तुम्हे भूल जाऊं।
Taj Mohammad
India is my national
India is my national
Rajan Sharma
परिणय
परिणय
मनोज कर्ण
💐अज्ञात के प्रति-104💐
💐अज्ञात के प्रति-104💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
■ एक सलाह, नेक सलाह...
■ एक सलाह, नेक सलाह...
*Author प्रणय प्रभात*
वन्दना
वन्दना
पं.आशीष अविरल चतुर्वेदी
आईना
आईना
Dr Parveen Thakur
I have recognized myself by understanding the values of the constitution. – Desert Fellow Rakesh Yadav
I have recognized myself by understanding the values of the constitution. – Desert Fellow Rakesh Yadav
Desert fellow Rakesh
कोई शिकवा है हमसे
कोई शिकवा है हमसे
कवि दीपक बवेजा
अर्जुन धुरंधर न सही ...एकलव्य तो बनना सीख लें ..मौन आखिर कब
अर्जुन धुरंधर न सही ...एकलव्य तो बनना सीख लें ..मौन आखिर कब
DrLakshman Jha Parimal
*राजा राम सिंह : रामपुर और मुरादाबाद के पितामह*
*राजा राम सिंह : रामपुर और मुरादाबाद के पितामह*
Ravi Prakash
आप कुल्हाड़ी को भी देखो, हत्थे को बस मत देखो।
आप कुल्हाड़ी को भी देखो, हत्थे को बस मत देखो।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
"हाथों की लकीरें"
Ekta chitrangini
गुरू द्वारा प्राप्त ज्ञान के अनुसार जीना ही वास्तविक गुरू दक
गुरू द्वारा प्राप्त ज्ञान के अनुसार जीना ही वास्तविक गुरू दक
SHASHANK TRIVEDI
लावा
लावा
Shekhar Chandra Mitra
तुलसी दास जी के
तुलसी दास जी के
Surya Barman
मौजु
मौजु
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Is It Possible
Is It Possible
Manisha Manjari
जब सोच की कमी हो
जब सोच की कमी हो
Dr fauzia Naseem shad
कलम कि दर्द
कलम कि दर्द
Hareram कुमार प्रीतम
*आओ बच्चों सीख सिखाऊँ*
*आओ बच्चों सीख सिखाऊँ*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
एक नायक भक्त महान 🌿🌿
एक नायक भक्त महान 🌿🌿
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
Advice
Advice
Shyam Sundar Subramanian
(((मन नहीं लगता)))
(((मन नहीं लगता)))
दिनेश एल० "जैहिंद"
"जागरण"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...