Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 7, 2022 · 2 min read

नियमित बनाम नियोजित(मरणशील बनाम प्रगतिशील)

शिक्षक (सहायक) मरणशील हो गया और बिहार प्रगतिशील हो गया ,
मरणशील और प्रगतिशील दोनों एक दूसरे के पूरक हैं,
एक मर रहा है दूसरा गति पकड़ रहा है,
वाह क्या नीति है ,एक को मारो दूसरा को जीवन दो
क्या नैसर्गिक न्याय है ?

बिहार सरकार ने ऐसी ही नैसर्गिक न्याय देने को अपना निर्णय किया है,
सहायक (शिक्षक) को मारो , नियोजित (नए जीवित करो) करो। क्योंकि ज्यादा खाने वाले को मारो और कम खाने वाले को जीवित करो तभी तो बिहार प्रगतिशील (विकासशील, क्रियाशील) होगा ।

नए जो जीवित (नियोजित) हैं उनके सबकुछ कम में चल जाता है, क्योंकि उनके लिए महंगाई कम है,
बच्चे कॉन्वेंट में पढ़ाते नही, चिकित्सा निजी क्लीनिक में कराते नही, अपने परिवार भी कम कर लिए,
पालन पोषण में आने वाले खर्च भी कम कर लिए,
इनके लिए प्रगति अपना सबकुछ कम कर लेना है,
तभी तो बिहार प्रगतिशील हो रहा है ।

नियोजित (शिक्षक) प्रगतिशील हैं ,सहायक (नियमित शिक्षक) मरणशील हैं , दोनों एक दूसरे के परस्पर विरोधी व पूरक है ,एक रहेंगे तो दूसरा नही। और नही रहना ही दूसरे को जन्म देना (पूरा करने वाला) है।

ये सहायक (नियमित) उन्नति नही अवनति किए थे
कम खर्च थे वेतन ज्यादा लेते थे अर्थात महंगाई कम
पैसा ज्यादा लेते थे।
ये समय के साथ चले नहीं इसीलिए तो मरणशील हो गए । ये प्रकृति का नियम है जो समय के अनुसार चलता नही वह विलुप्त (मरणशील) हो जाता है।

वहीं नियोजित (प्रगतिशील) अल्प वेतन में इतना प्रगति कर रहे हैं, अर्थात बड़ा को छोटा कर लेना(ज्यादा खर्च को कम में बदल देना) ये तो प्रगति (विकास) हीं है न! जैसे बड़ा कोई सामान अब छोटे (डिजिटल) में हो गया हो और शक्ति तथा गुणवता बड़े की अपेक्षा ज्यादा ।

और उपलब्धि देखिए परीक्षा में बिहार सबसे आगे
इसीलिए सहायक मरणशील
और नियोजित बिहार प्रगतिशील……

3 Likes · 2 Comments · 1191 Views
You may also like:
जाति- पाति, भेद- भाव
AMRESH KUMAR VERMA
परी
Alok Saxena
कौन थाम लेता है ?
DESH RAJ
ईद में खिलखिलाहट
Dr. Kishan Karigar
आईना हूं सब सच ही बताऊंगा।
Taj Mohammad
जुल्फ जब खुलकर बिखर गई
मनमोहन लाल गुप्ता अंजुम
डर कर लक्ष्य कोई पाता नहीं है ।
Buddha Prakash
💐नव ऊर्जा संचार💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*अमृत-सरोवर में नौका-विहार*
Ravi Prakash
कर्म ही पूजा है।
Anamika Singh
खोकर के अपनो का विश्वास ।....(भाग - 3)
Buddha Prakash
नर्सिंग दिवस पर नमन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हसद
Alok Saxena
✍️आज फिर जेब खाली है✍️
"अशांत" शेखर
वक्त रहते मिलता हैं अपने हक्क का....
Dr. Alpa H. Amin
सरकारी निजीकरण।
Taj Mohammad
"फिर से चिपको"
पंकज कुमार "कर्ण"
मोर के मुकुट वारो
शेख़ जाफ़र खान
कहाँ तुम पौन हो
Pt. Brajesh Kumar Nayak
✍️स्टेचू✍️
"अशांत" शेखर
पैसा
Arjun Chauhan
बँटवारे का दर्द
मनोज कर्ण
✍️मेरा जिक्र हुवा✍️
"अशांत" शेखर
पर्यावरण दिवस
Ram Krishan Rastogi
यह तो वक्ती हस्ती है।
Taj Mohammad
दुनियाँ की भीड़ में।
Taj Mohammad
अग्नि पथ के अग्निवीर
Anamika Singh
✍️"अग्निपथ-३"...!✍️
"अशांत" शेखर
✍️कही हजार रंग है जिंदगी के✍️
"अशांत" शेखर
मौसम की तरह तुम बदल गए हो।
Taj Mohammad
Loading...