Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Aug 4, 2022 · 1 min read

नियति से प्रतिकार लो

जब कभी विचलित हो मन
नैराश्यता भरने लगे,
अशांत होकर मन ये फिर
उत्साह जब तजने लगे,
पूर्व के पुरुषार्थ से
साहस स्वयं का आंकना ।
मन को थोड़ा शांत रख
अतीत में फिर झांकना ।
जाने कितने ही बवंडर
आये बहुत दहलाए थे ।
पांव जमाए खूब जमकर
फिर भी लड़खड़ाए थे
किन्तु हम लड़ते रहे
मैदान में डटते रहे
और आया वक्त वो भी
जब बवंडर जा चुका था ।
समय और पुरुषार्थ से
विजय का पल आ चुका था |
भाग्य ने तुझको सराहा
यश तिलक माथे दिया था ।
हर कर सारी क्लान्ति तेरी
परिणाम सब उत्तम दिया था।
आज फिर वो ही बवण्डर
पर अधिक न टिक सकेगा ।
देखकर दृढ़ता तुम्हारी
निश्चय ही ये पथ तजेगा
किन्तु तब तक धैर्य से
कुछ शान्त मन से काम लो ।
मन के उपक्रम साध सब
नियति से प्रतिकार लो ।

37 Views
You may also like:
क्यों भूख से रोटी का रिश्ता
Dr fauzia Naseem shad
तेरा ख्याल।
Taj Mohammad
कातिल ना मिला।
Taj Mohammad
“सराय का मुसाफिर”
DESH RAJ
फर्क़ ए मुहब्बत
shabina. Naaz
'विश्व जनसंख्या दिवस'
Godambari Negi
नियति
Anamika Singh
सच होता है कड़वा
gurudeenverma198
वर्षा
Vijaykumar Gundal
कुण्डलिया
शेख़ जाफ़र खान
मोर के मुकुट वारो
शेख़ जाफ़र खान
हासिल ना हुआ।
Taj Mohammad
कुछ समझ में
Dr fauzia Naseem shad
मंजिल की तलाश
AMRESH KUMAR VERMA
✍️✍️नींद✍️✍️
'अशांत' शेखर
✍️दो पंक्तिया✍️
'अशांत' शेखर
नव सूर्योदय
AMRESH KUMAR VERMA
हमनें ख़ामोश
Dr fauzia Naseem shad
किसी और के खुदा बन गए है।
Taj Mohammad
अपनी कहानी
Dr.Priya Soni Khare
मकड़जाल
Vikas Sharma'Shivaaya'
"आओ हम सब मिल कर गाएँ भारत माँ के गान"
Lohit Tamta
अभी बाकी है
Lamhe zindagi ke by Pooja bharadawaj
इश्क़ नहीं हम
Varun Singh Gautam
मर्द को भी दर्द होता है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मेरी आँखे
Anamika Singh
यादों की गठरी
Dr. Arti 'Lokesh' Goel
ज़िंदगी की हक़ीक़त से
Dr fauzia Naseem shad
मौसम मौसम बदल गया
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
धुँध
Rekha Drolia
Loading...