Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Aug 2022 · 1 min read

नियति से प्रतिकार लो

जब कभी विचलित हो मन
नैराश्यता भरने लगे,
अशांत होकर मन ये फिर
उत्साह जब तजने लगे,
पूर्व के पुरुषार्थ से
साहस स्वयं का आंकना ।
मन को थोड़ा शांत रख
अतीत में फिर झांकना ।
जाने कितने ही बवंडर
आये बहुत दहलाए थे ।
पांव जमाए खूब जमकर
फिर भी लड़खड़ाए थे
किन्तु हम लड़ते रहे
मैदान में डटते रहे
और आया वक्त वो भी
जब बवंडर जा चुका था ।
समय और पुरुषार्थ से
विजय का पल आ चुका था |
भाग्य ने तुझको सराहा
यश तिलक माथे दिया था ।
हर कर सारी क्लान्ति तेरी
परिणाम सब उत्तम दिया था।
आज फिर वो ही बवण्डर
पर अधिक न टिक सकेगा ।
देखकर दृढ़ता तुम्हारी
निश्चय ही ये पथ तजेगा
किन्तु तब तक धैर्य से
कुछ शान्त मन से काम लो ।
मन के उपक्रम साध सब
नियति से प्रतिकार लो ।

Language: Hindi
Tag: कविता
1 Like · 107 Views
You may also like:
मत्तगयंद सवैया छंद
संजीव शुक्ल 'सचिन'
डिजिटल प्यार था हमरा
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
औकात।
Taj Mohammad
*जय हिंदी* ⭐⭐⭐
पंकज कुमार कर्ण
बाबा फ़क़ीर
Buddha Prakash
ऊंची शिखर की उड़ान
AMRESH KUMAR VERMA
प्रेम के रिश्ते
Rashmi Sanjay
शुभचिंतक, एक बहन
Dr.sima
तुम जो हो
Shekhar Chandra Mitra
दीप सब सद्भाव का मिलकर जलाएं
Dr Archana Gupta
ऐ चाँद
Saraswati Bajpai
* रौशनी उसकी *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*कविवर श्री अशोक गोयल (पिलखुआ निवासी)*
Ravi Prakash
" गौरा "
Dr Meenu Poonia
हाइकु:(लता की यादें!)
Prabhudayal Raniwal
🌺🌺मेरी सादगी को बदनाम ना करो🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
गीता के स्वर (2) शरीर और आत्मा
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
अमर शहीद भगत सिंह का जन्मदिन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
अभागीन ममता
ओनिका सेतिया 'अनु '
#मेरी दोस्त खास है
Seema 'Tu hai na'
कितना तेरा मैं इंतिज़ार करूं
Dr fauzia Naseem shad
✍️तुम ख़ुद ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
जिन्दगी से शिकायत न रही
Anamika Singh
पिता का पता
श्री रमण 'श्रीपद्'
जिंदगी में जो उजाले दे सितारा न दिखा।
सत्य कुमार प्रेमी
बड़ी आरज़ू होती है ......................
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
कुछ पन्ने बेवज़ह हीं आँखों के आगे खुल जाते हैं।
Manisha Manjari
फल
Aditya Prakash
मेरी (अपनी) आवाज़
Shivraj Anand
वज्रमणि
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Loading...