Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 9, 2017 · 2 min read

निशा प्रहर में

क्यूँ निशा प्रहर तुम आए हो मन के इस प्रांगण में?
रूको! अभी मत जाओ, तुम रुक ही जाओ इस आंगन में।

बुझती साँसों सी संकुचित निशा प्रहर में,
मिले थे भाग्य से, तुम उस भटकी सी दिशा प्रहर में,
संजोये थे अरमान कई, हमने उस प्रात प्रहर में,
बीत रही थी निशा, एकाकी मन प्रांगण में…

क्यूँ निशा प्रहर तुम आए हो मन के इस प्रांगण में?
रूको! अभी मत जाओ, तुम रुक ही जाओ इस आंगन में।

कहनी है बातें कई तुमसे अपने मन की!
संकुचित निशा प्रहर अब रोक रही राहें मन की!
चंद घड़ी ही छूटीं थी फुलझरियाँ इस मन की!
सीमित रजनी कंपन ही थी क्या मेरे भाग्यांकण में?

क्यूँ निशा प्रहर तुम आए हो मन के इस प्रांगण में?
रूको! अभी मत जाओ, तुम रुक ही जाओ इस आंगन में।

मेरी अधरों से सुन लेना तुम निशा वाणी!
ये अधर पुट मेरे, शायद कह पाएँ कोई प्रणय कहानी!
कुछ संकोच भरे पल कुछ संकुचित हलचल!
ये पल! मुमकिन भी क्या मेरे इस लघु जीवन में?

क्यूँ निशा प्रहर तुम आए हो मन के इस प्रांगण में?
रूको! अभी मत जाओ, तुम रुक ही जाओ इस आंगन में।

शिथिल हो रहीं सांसें इस निशा प्रहर में,
कांत हो रहा मन देख तारों को नभ की बाँहों में,
निशा रजनी डूब रही चांदनी की मदिरा में,
प्रिय! मैं भूला-भुला सा हूँ तेरी यादों की गलियों में!

क्यूँ निशा प्रहर तुम आए हो मन के इस प्रांगण में?
रूको! अभी मत जाओ, तुम रुक ही जाओ इस आंगन में।

428 Views
You may also like:
आत्मनिर्भर
मनोज कर्ण
पिताजी
विनोद शर्मा सागर
पिता है भावनाओं का समंदर।
Taj Mohammad
बहुआयामी वात्सल्य दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
प्रकृति के चंचल नयन
मनोज कर्ण
हम सब एक है।
Anamika Singh
हम भटकते है उन रास्तों पर जिनकी मंज़िल हमारी नही,
Vaishnavi Gupta
इज़हार-ए-इश्क 2
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पवनपुत्र, हे ! अंजनि नंदन ....
ईश्वर दयाल गोस्वामी
फहराये तिरंगा ।
Buddha Prakash
जैसे सांसों में ज़िंदगी ही नहीं
Dr fauzia Naseem shad
हे पिता,करूँ मैं तेरा वंदन
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मैं तो सड़क हूँ,...
मनोज कर्ण
आतुरता
अंजनीत निज्जर
Life through the window during lockdown
ASHISH KUMAR SINGH
जय जगजननी ! मातु भवानी(भगवती गीत)
मनोज कर्ण
'दुष्टों का नाश करें' (ओज - रस)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
गिरधर तुम आओ
शेख़ जाफ़र खान
काश बचपन लौट आता
Anamika Singh
जीवन के उस पार मिलेंगे
Shivkumar Bilagrami
✍️इंतज़ार✍️
Vaishnavi Gupta
फेसबुक की दुनिया
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मै पैसा हूं दोस्तो मेरे रूप बने है अनेक
Ram Krishan Rastogi
प्रेम में त्याग
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
इन्सानियत ज़िंदा है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
ऐ ज़िन्दगी तुझे
Dr fauzia Naseem shad
बरसात की झड़ी ।
Buddha Prakash
वर्षा ऋतु में प्रेमिका की वेदना
Ram Krishan Rastogi
मर गये ज़िंदगी को
Dr fauzia Naseem shad
छोड़ दी हमने वह आदते
Gouri tiwari
Loading...