Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 15, 2022 · 1 min read

नित हारती सरलता है।

जगती के उदधि में
विचारों की रज्जु से
उर मदराचल सा मथता है
तब अथक प्रयास से
नवनीत कुछ निकलता है ।

सूर्य सिर पर तप रहा
खार जल तन सह रहा
जलराशि से घिरे हुए
पर प्‍यास की विकलता है।

इस प्यास को सहन करते
रोज जीते रोज मरते
बस प्राण है सधे हुए
क्या विफल सफलता है ।

हृदय में विचलन बहुत
पर हास अधरों पर सजा
हम जो है वो हो न पाये
क्या अजब सबलता है ।

सब यज्ञ पूर्ण कर रहा
तन हवन में तप रहा
जीतते सब कुटिल मन
नित हारती सरलता है ।

65 Views
You may also like:
दर्द की कश्ती
DESH RAJ
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
गंगा दशहरा
श्री रमण
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
✍️पुरानी रसोई✍️
"अशांत" शेखर
काँच के रिश्ते ( दोहा संग्रह)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
पितृ वंदना
मनोज कर्ण
ग़ज़ल- मज़दूर
आकाश महेशपुरी
सब खड़े सुब्ह ओ शाम हम तो नहीं
Anis Shah
✍️वो उड़ते रहता है✍️
"अशांत" शेखर
कर्म
Rakesh Pathak Kathara
निगाह-ए-यास कि तन्हाइयाँ लिए चलिए
शिवांश सिंघानिया
पत्थर के भगवान
Ashish Kumar
हालात
Surabhi bharati
खूबसूरत तस्वीर
DESH RAJ
बहुत कुछ सिखा
Swami Ganganiya
वेवफा प्यार
Anamika Singh
खमोशी है जिसका गहना
शेख़ जाफ़र खान
ग़ज़ल
Anis Shah
ग़म की ऐसी रवानी....
अश्क चिरैयाकोटी
कर तू कोशिश कई....
Dr. Alpa H. Amin
✍️आज फिर जेब खाली है✍️
"अशांत" शेखर
महका हम करेंगें।
Taj Mohammad
स्याह रात ने पंख फैलाए, घनघोर अँधेरा काफी है।
Manisha Manjari
गज़लें
AJAY PRASAD
कैसा हो सरपंच हमारा / (समसामयिक गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
चिराग जलाए नहीं
शेख़ जाफ़र खान
पिता
Satpallm1978 Chauhan
दोहा छंद- पिता
रेखा कापसे
Loading...