Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Apr 2023 · 1 min read

निकला है हर कोई उस सफर-ऐ-जिंदगी पर,

निकला है हर कोई उस सफर-ऐ-जिंदगी पर,
जिसकी मंजिल मालूम फिर भी ढूंढ़ता उम्रभर !
!
डी के निवातिया

187 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डी. के. निवातिया
View all
You may also like:
जिंदगी देखा तुझे है आते औ'र जाते हुए।
जिंदगी देखा तुझे है आते औ'र जाते हुए।
सत्य कुमार प्रेमी
काफिला यूँ ही
काफिला यूँ ही
Dr. Sunita Singh
किसान क्रान्ति
किसान क्रान्ति
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मां होती है
मां होती है
Seema gupta,Alwar
सत्ता परिवर्तन
सत्ता परिवर्तन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*मासूम पर दया*
*मासूम पर दया*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
यह दिल
यह दिल
Anamika Singh
💐प्रेम कौतुक-364💐
💐प्रेम कौतुक-364💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मौन की पीड़ा
मौन की पीड़ा
Saraswati Bajpai
दुनिया के मेले
दुनिया के मेले
Shekhar Chandra Mitra
चमचागिरी
चमचागिरी
सूर्यकांत द्विवेदी
भारत की जाति व्यवस्था
भारत की जाति व्यवस्था
AMRESH KUMAR VERMA
#लघुकथा
#लघुकथा
*Author प्रणय प्रभात*
कहने को आज है एक मई,
कहने को आज है एक मई,
Satish Srijan
"लाइलाज दर्द"
DESH RAJ
हास्य गजल
हास्य गजल
Sandeep Albela
कर्म और ज्ञान,
कर्म और ज्ञान,
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
शिक्षित बने ।
शिक्षित बने ।
Buddha Prakash
बच्चा जो पैदा करें, पहले पूछो आय ( कुंडलिया)
बच्चा जो पैदा करें, पहले पूछो आय ( कुंडलिया)
Ravi Prakash
✍️मैं टाल देता हूँ ✍️
✍️मैं टाल देता हूँ ✍️
'अशांत' शेखर
रोम रोम है दर्द का दरिया,किसको हाल सुनाऊं
रोम रोम है दर्द का दरिया,किसको हाल सुनाऊं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
रोज डे पर रोज देकर बदले में रोज लेता है,
रोज डे पर रोज देकर बदले में रोज लेता है,
डी. के. निवातिया
क्या हुआ जो तूफ़ानों ने कश्ती को तोड़ा है
क्या हुआ जो तूफ़ानों ने कश्ती को तोड़ा है
Anil Mishra Prahari
एहसासे कमतरी का
एहसासे कमतरी का
Dr fauzia Naseem shad
एक बात... पापा, करप्शन.. लेना
एक बात... पापा, करप्शन.. लेना
Nitu Sah
होता नहीं अब मुझसे
होता नहीं अब मुझसे
gurudeenverma198
ऐसा इजहार करू
ऐसा इजहार करू
Basant Bhagawan Roy
मंजिल तो  मिल जाने दो,
मंजिल तो मिल जाने दो,
Jay Dewangan
कुछ अल्फाज़ खरे ना उतरते हैं।
कुछ अल्फाज़ खरे ना उतरते हैं।
Taj Mohammad
फर्ज
फर्ज
shabina. Naaz
Loading...