Oct 13, 2016 · 1 min read

ना मै हिन्दू हूँ ना ही मुसलमान/मंदीप

ना मै हिन्दु हूँ ना ही मुस्लमान ,
जब मै आया था तो सिर्फ एक इंसान।

करते क्यों हो तुम आपस में अपनों पर इतना जुल्म,
ये देख कर घबरा जाता है अपना भगवान।।

करते हो तुम आपस में मजहब की बातें,
करते तुम ऐसा हो जाता बदनाम भगवान।।

एक दिन तुमारा भी आएगा मेरा भी,
फिर क्यों तुम बन जाते हो हवान ।।

खुद को अगर लो तुम सवार,
तभी तो बनोगे तुम अच्छे इंसान।।

भाई है हम आपस मे रहेगे मिलजुल कर,
रहो प्यार से यही है मंदीप् का फरमान।।

मंदीपसाई

182 Views
You may also like:
पिता जी
Rakesh Pathak Kathara
माँ, हर बचपन का भगवान
Pt. Brajesh Kumar Nayak
दिल की ख्वाहिशें।
Taj Mohammad
"सूखा गुलाब का फूल"
Ajit Kumar "Karn"
गम हो या हो खुशी।
Taj Mohammad
हे ! धरती गगन केऽ स्वामी...
मनोज कर्ण
मां
Umender kumar
मां
Anjana Jain
पानी कहे पुकार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"चैन से तो मर जाने दो"
रीतू सिंह
आज असंवेदनाओं का संसार देखा।
Manisha Manjari
सही दिशा में
Ratan Kirtaniya
Born again with love...
Abhineet Mittal
कभी मिट्टी पर लिखा था तेरा नाम
Krishan Singh
शायद...
Dr. Alpa H.
ममता की फुलवारी माँ हमारी
Dr. Alpa H.
जाने कैसी कैद
Saraswati Bajpai
शासन वही करता है
gurudeenverma198
दिल मुझसे लगाकर,औरों से लगाया न करो
Ram Krishan Rastogi
कौन था वो ?...
मनोज कर्ण
एकाकीपन
Rekha Drolia
कलयुग का आरम्भ है।
Taj Mohammad
क्यों सत अंतस दृश्य नहीं?
AJAY AMITABH SUMAN
*मृदुभाषी श्री ऊदल सिंह जी : शत-शत नमन*
Ravi Prakash
हिन्दी थिएटर के प्रमुख हस्ताक्षर श्री पंकज एस. दयाल जी...
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हायकु
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
कहां जीवन है ?
Saraswati Bajpai
अर्धनारीश्वर की अवधारणा...?
मनोज कर्ण
"सुकून की तलाश"
Ajit Kumar "Karn"
सौ प्रतिशत
Dr Archana Gupta
Loading...