Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 25, 2017 · 1 min read

ना पूछो तुम हाल मेरे दिल का हो गया हाल बेहाल इस दिल का

ना पूछो तुम हाल मेरे दिल का
हो गया हाल बेहाल इस दिल का
दिल के दर्द को आँखों ने पनाह दी
बरस गये मोती बनकर
दिल लगाने की सज़ा आँखों को दी
बन गया समुंद्र नदी ने ना पनाह दी
गहराई में जाकर बस गए
इस गुनाह की हमे सज़ा दी
मुकर गए तुम वादों से
ये कैसी जबाँ दी
नदी की शांत धारा को
समुंद्र में समा दी
तूफानों में भी कश्ती अपनी
किनारों में लगा दी
तूफ़ान में आने की सज़ा देकर
किनारों से राह भटका दी
छिटक गये टूट कर
कैसी सज़ा दी
सूख गए शबनम धरा में
दर्द को धरा ने पनाह दी
चिर दिया सिना हमने लेकिन
तुमने ना अपने दिल में पनाह दी
रूठ कर चल दिए
मुड़कर देखने की
हमने तुमसे इल्तिज़ा की
दिल लगाने की कैसी सज़ा दी
दिल के ज़ख्म को आँखों ने पनाह दी
बरस गए मोती बनकर, इस दर्द की ना तूने दवा दी

भूपेंद्र रावत
25।09।2017

1 Like · 259 Views
You may also like:
समय ।
Kanchan sarda Malu
काश बचपन लौट आता
Anamika Singh
यादें वो बचपन के
Khushboo Khatoon
सपनों में खोए अपने
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
फहराये तिरंगा ।
Buddha Prakash
✍️ईश्वर का साथ ✍️
Vaishnavi Gupta
बुआ आई
राजेश 'ललित'
रफ्तार
Anamika Singh
#पूज्य पिता जी
आर.एस. 'प्रीतम'
बस एक निवाला अपने हिस्से का खिला कर तो देखो।
Gouri tiwari
गर्मी का रेखा-गणित / (समकालीन नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
माँ की भोर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता क्या है?
Varsha Chaurasiya
जीत कर भी जो
Dr fauzia Naseem shad
अधुरा सपना
Anamika Singh
पिता
Dr. Kishan Karigar
बे'बसी हमको चुप करा बैठी
Dr fauzia Naseem shad
कोई हमदर्द हो गरीबी का
Dr fauzia Naseem shad
अपना ख़्याल
Dr fauzia Naseem shad
उस पथ पर ले चलो।
Buddha Prakash
छोड़ दो बांटना
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
वेदों की जननी... नमन तुझे,
मनोज कर्ण
जितनी मीठी ज़ुबान रक्खेंगे
Dr fauzia Naseem shad
पिता की नसीहत
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
दहेज़
आकाश महेशपुरी
ऐ मातृभूमि ! तुम्हें शत-शत नमन
Anamika Singh
मौन में गूंजते शब्द
Manisha Manjari
एक दुआ हो
Dr fauzia Naseem shad
अबके सावन लौट आओ
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
गीत- जान तिरंगा है
आकाश महेशपुरी
Loading...