Sep 20, 2016 · 1 min read

ना खेलो खेल पाक तुम खून का/मंदीप

ना खेलो खेल पाक तुम खून का,
सब जगह तुम को खून ही खून नजर आयेगा।

बंन्द करो अब अपनी छिछोरी हरकतों को,
नही तो बाद में तू बहुत पछतायेगा।

कर दो तुम बंन्द छुप कर वार करना,
नही पाक जमी पर कुछ नजर नही आयेगा।

करते हो हम से कश्मीर लेने की बात,
सुधर जाओ एक दिन तेरा पाक तुम से ही छिन जायेगा।

ख्याल करो तुम अपनों का,
नही सब जगह खून ही खून नजर आयेगा।

क्यों हाकते को तुम बड़ी बड़ी बाते,
वो सब धरा का धरा रह जायेगा।

है गुजारिस “मंदीप” की पाक तुम से,
नही तो एक दिन पाक जमी पर हिंदुस्तान का तिरंगा नजर आयेगा।

जय हिन्द

मंदीपसाई

90 Views
You may also like:
मज़दूर की महत्ता
Dr. Alpa H.
प्रणाम नमस्ते अभिवादन....
Dr. Alpa H.
सोए है जो कब्रों में।
Taj Mohammad
हम पे सितम था।
Taj Mohammad
मतदान का दौर
Anamika Singh
'माँ मुझे बहुत याद आती हैं'
Rashmi Sanjay
हिन्दी साहित्य का फेसबुकिया काल
मनोज कर्ण
हैं पिता, जिनकी धरा पर, पुत्र वह, धनवान जग में।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
वोह जब जाती है .
ओनिका सेतिया 'अनु '
बेजुबां जीव
Jyoti Khari
छद्म राष्ट्रवाद की पहचान
Mahender Singh Hans
मैं मेहनत हूँ
Anamika Singh
"निर्झर"
Ajit Kumar "Karn"
सारे ही चेहरे कातिल हैं।
Taj Mohammad
धर्म बला है...?
मनोज कर्ण
दुआएं करेंगी असर धीरे- धीरे
Dr Archana Gupta
Little baby !
Buddha Prakash
पिता
Dr. Kishan Karigar
आखिर तुम खुश क्यों हो
Krishan Singh
सुर बिना संगीत सूना.!
Prabhudayal Raniwal
मन्नू जी की स्मृति में दोहे (श्रद्धा सुमन)
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
आख़िरी मुलाक़ात ghazal by Vinit Singh Shayar
Vinit Singh
तप रहे हैं प्राण भी / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
इंसानियत बनाती है
gurudeenverma198
You Have Denied Visiting Me In The Dreams
Manisha Manjari
*!* रचो नया इतिहास *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
होना सभी का हिसाब है।
Taj Mohammad
प्रेम की राह पर -8
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हे कुंठे ! तू न गई कभी मन से...
ओनिका सेतिया 'अनु '
अरविंद सवैया
संजीव शुक्ल 'सचिन'
Loading...