Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jul 2022 · 1 min read

नास्तिक सदा ही रहना…

नास्तिक सदा ही रहना…
~~°~~°~~°
मन से अहं निकाल लो,फिर नास्तिक सदा ही रहना…
खुद को यदि तुम जान लो,फिर धर्मविमुख ही रहना।
माता-पिता गुरु हरि रूप है,उन्हें श्रद्धा के पुष्प चढ़ाओ ,
करुणा के भाव जगा लो,फिर नास्तिक सदा ही रहना…

बहस और विवाद से, मिलते कहाँ प्रभु हैं ,
हर जुर्म का हिसाब तो,करते यहाँ प्रभु हैं।
नफरतों के जहर को, तुम प्रेम से मिटा दो ,
इसी सत्य को स्वीकार लो,फिर नास्तिक सदा ही रहना…

हलाल हो या झटका,बिलखते तो पशु बेजुबां हैं,
कैसे मिलोगे खुदा से,तड़पते जो तन बे-इंतिहा हैं।
ढाई अक्षर जो प्रेम का,सिखलाता है धर्म मानवता ,
इसी राह पर चलो ना, फिर नास्तिक सदा ही रहना…

आडम्बरों से किसी ने, यहाँ पाया नहीं है ईश्वर ,
गंगा में तुम नहाओ या जमजम का जल लगाओ ।
भक्तवत्सल की छवि तो,बस तेरे अंतस में छिपा है,
अंतस को बस निहार लो,फिर नास्तिक सदा ही रहना…

मौलिक एवं स्वरचित
सर्वाधिकार सुरक्षित
© ® मनोज कुमार कर्ण
कटिहार ( बिहार )
तिथि – १० /०७/२०२२
आषाढ़, शुक्ल पक्ष ,एकादशी ,रविवार ।
विक्रम संवत २०७९
मोबाइल न. – 8757227201
ई-मेल – mk65ktr@gmail.com

Language: Hindi
Tag: कविता
8 Likes · 4 Comments · 413 Views
You may also like:
अजीब कशमकश
Anjana Jain
कच्चे धागे का मूल्य
Seema 'Tu hai na'
शांति अमृत
Buddha Prakash
मन
Pakhi Jain
उम्मीद
Harshvardhan "आवारा"
तम भरे मन में उजाला आज करके देख लेना!!
संजीव शुक्ल 'सचिन'
गज़ल
Krishna Tripathi
मुझे आज भी तुमसे प्यार है
Ram Krishan Rastogi
माता-पिता की जान है उसकी संतान
Umender kumar
देवदासी प्रथा का अंत
Shekhar Chandra Mitra
संविदा की नौकरी का दर्द
आकाश महेशपुरी
देशभक्ति के पर्याय वीर सावरकर
Ravi Prakash
कच्चे आम
Prabhat Ranjan
मेरे एहसास का
Dr fauzia Naseem shad
आखिरी पड़ाव
DESH RAJ
मन चाहे कुछ कहना....!
Kanchan Khanna
दिल पूछता है हर तरफ ये खामोशी क्यों है
VINOD KUMAR CHAUHAN
सिंधु का विस्तार देखो
surenderpal vaidya
प्रेयसी पुनीता
Mahendra Rai
कवित्त
Varun Singh Gautam
मां-बाप
Taj Mohammad
✍️मी परत शुन्य होणार नाही..!✍️
'अशांत' शेखर
तेरे ख़त
Kaur Surinder
आदत
Anamika Singh
आधुनिकता के इस दौर में संस्कृति से समझौता क्यों
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
प्यार झूठा
Alok Vaid Azad
सावन के काले बादल औ'र बदलियां ग़ज़ल में।
सत्य कुमार प्रेमी
जो मैंने देखा...
पीयूष धामी
💐 हे तात नमन है तुमको 💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ये अनुभवों की उपलब्धियां हीं तो, ज़िंदगी को सजातीं हैं।
Manisha Manjari
Loading...