Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Aug 2, 2016 · 1 min read

नासमझ है…

उसने मुझे एक कागज
थमाया,मुस्कुराते हुए कहा
इसमें लिखा है बहुत कुछ
दिल की आँखों से पड़ सकते हो
तो पढ़ लेना
शब्दों का मर्म समझ लेना
दिल की गहराइयो से,
दिल की बात है दिल से ही समझ लेना
दिमाग इसे समझ नहीं पायेगा,
आँखे इसे पढ़ नहीं पायेगी
हमने झट से कागज लिया और खोला
अचरज भरी निग़ाहों से उसे देखा
और तपाक से उसे बोला
कोरा कागज???
वह जा चुकी थी,
समझ में आया….
दिल की बात दिल ही समझ सकता है
दिल ही पढ़ सकता है….

^^^^दिनेश शर्मा^^^^
**************

1 Like · 254 Views
You may also like:
तुमसे कोई शिकायत नही
Ram Krishan Rastogi
अब आ भी जाओ पापाजी
संदीप सागर (चिराग)
सत्य कभी नही मिटता
Anamika Singh
सोच तेरी हो
Dr fauzia Naseem shad
पापा जी
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
पितृ ऋण
Shyam Sundar Subramanian
सच और झूठ
श्री रमण 'श्रीपद्'
अनमोल राजू
Anamika Singh
बारिश की बौछार
Shriyansh Gupta
पापा को मैं पास में पाऊँ
Dr. Pratibha Mahi
The Buddha And His Path
Buddha Prakash
✍️कोई नहीं ✍️
Vaishnavi Gupta
श्रीराम गाथा
मनोज कर्ण
काश मेरा बचपन फिर आता
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
अनामिका के विचार
Anamika Singh
हर एक रिश्ता निभाता पिता है –गीतिका
रकमिश सुल्तानपुरी
कोई खामोशियां नहीं सुनता
Dr fauzia Naseem shad
पिता आदर्श नायक हमारे
Buddha Prakash
पिता
Satpallm1978 Chauhan
समय ।
Kanchan sarda Malu
सफलता कदम चूमेगी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
रूठ गई हैं बरखा रानी
Dr Archana Gupta
✍️प्यारी बिटिया ✍️
Vaishnavi Gupta
आंसूओं की नमी का क्या करते
Dr fauzia Naseem shad
"रक्षाबंधन पर्व"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
यही तो इश्क है पगले
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
आई राखी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
अमर शहीद चंद्रशेखर "आज़ाद" (कुण्डलिया)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
नदी बन जा तू
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
श्रम पिता का समाया
शेख़ जाफ़र खान
Loading...