Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Aug 6, 2016 · 1 min read

नारी

नारी
खूब करें अपमान नारी का , झूठे वादे झूठी क़समें
नारे बाज़ी भी करते हैं , कैसी हैं थोथी ये रसमें।

आपस में जो बात भी करते, गलियाते माँ बेटी को
बैर भाव में जम कर होती, ज़ख़्मी माँ , बेटी ,बहनें ।

लाज शर्म की हद न रहती, भूल जायें सारे संसकार
बेटी बहु को गाली देते , बरसे झर झर गंदे नगमें।

कैसी राह चलें मेरे भाई, शर्मसार होती नारी
हमने कयूं है जनम दिया इन्हें , दुख लगा हमको लगने।

अनाचार यह कब थम पाये, कोई आसार नहीं दिखता
न जाने कयूं पुरूष समाज को , गाली देना ही भाये।

231 Views
You may also like:
चम्पा पुष्प से भ्रमर क्यों दूर रहता है
Subhash Singhai
शाइ'राना है तबीयत
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
चलो आग-ए-इश्क का दरिया पार करते है।
Taj Mohammad
** तक़दीर की रेखाएँ **
Dr. Alpa H. Amin
लौट आई जिंदगी बेटी बनकर!
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
*!* कच्ची बुनियाद *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
बंकिम चन्द्र प्रणाम
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
विसाले यार ना मिलता है।
Taj Mohammad
💐आत्म साक्षात्कार💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बस एक ही भूख
DESH RAJ
✍️पिता:एक किरण✍️
"अशांत" शेखर
रसीला आम
Buddha Prakash
जो भी संजोग बने संभालो खुद को....
Dr. Alpa H. Amin
हाइकु:(लता की यादें!)
Prabhudayal Raniwal
" राजस्थान दिवस "
jaswant Lakhara
शायरी
श्याम सिंह बिष्ट
पिता
Madhu Sethi
पानी का दर्द
Anamika Singh
मेरे दिल को जख्मी तेरी यादों ने बार बार किया
Krishan Singh
मैं द्रौपदी, मेरी कल्पना
Anamika Singh
धन्य है पिता
Anil Kumar
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग ७]
Anamika Singh
कुछ कर गुज़र।
Taj Mohammad
रात में सो मत देरी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मुकद्दर ने
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
क्लासिफ़ाइड
सिद्धार्थ गोरखपुरी
मदहोश रहे सदा।
Taj Mohammad
आवत हिय हरषै नहीं नैनन नहीं स्नेह।
sheelasingh19544 Sheela Singh
उसके मेरे दरमियाँ खाई ना थी
Khalid Nadeem Budauni
मोहब्बत में।
Taj Mohammad
Loading...