Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#4 Trending Author
May 2, 2022 · 1 min read

नारी है सम्मान।

नारी है सम्मान,
हमारे घर का।
आन है,मान है,
हमारे घर का।।

इसके बिना है सुना,
परिवार ये हमारा।
घर को है स्वर्ग बनाना,
काम है ये इसका।।

सहन शक्ति ना पूंछों,
जानें कहां से लाती है।
सबकी खुशियों की खातिर,
दुख अपने भूल जाती है।।

पृथ्वी की तरह,
वसुंधरा ये होती है।
धरा की तरह,
परिवार का बोझ ये ढोती है।।

लबों पे इसके,
मुस्कान सदा रहती है।
अपने दुख को कभी,
ये ना किसी से कहती है।।

सन्तान की खातिर,
सभी से ये लड़ती है।
समय आने पर,
दुर्गा,काली का रूप धरती है।।

निस्वार्थ आदर,
सभी का ये करती है।
फिर भी नारी को,
इज्जत सभी से ना मिलती है।।

ताज मोहम्मद
लखनऊ

3 Comments · 83 Views
You may also like:
तेरी सुंदरता पर कोई कविता लिखते हैं।
Taj Mohammad
ग़म-ए-दिल....
Aditya Prakash
मत बना किसी को अपनी कमजोरी
Krishan Singh
कैसे समझाऊँ तुझे...
Sapna K S
आज फिर
Rashmi Sanjay
उपहार (फ़ादर्स डे पर विशेष)
drpranavds
✍️दिल बहल जाता है।✍️
"अशांत" शेखर
माँ
आकाश महेशपुरी
नाम
Ranjit Jha
" मैं हूँ ममता "
मनोज कर्ण
*सभी को चाँद है प्यारा ( मुक्तक)*
Ravi Prakash
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता हैं [भाग८]
Anamika Singh
पिता, पिता बने आकाश
indu parashar
पिता मेरे /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
**जीवन में भर जाती सुवास**
Dr. Alpa H. Amin
पिता
रिपुदमन झा "पिनाकी"
✍️कथासत्य✍️
"अशांत" शेखर
पुस्तक समीक्षा -कैवल्य
Rashmi Sanjay
विवश मनुष्य
AMRESH KUMAR VERMA
अनोखा गुलाब (“माँ भारती ”)
DESH RAJ
“ तेरी लौ ”
DESH RAJ
तप रहे हैं प्राण भी / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
विश्व हास्य दिवस
Dr Archana Gupta
सारे यार देख लिए..
Dr. Meenakshi Sharma
झरने और कवि का वार्तालाप
Ram Krishan Rastogi
*दर्शन प्रभुजी दिया करो (गीत भजन)*
Ravi Prakash
वो कली मासूम
सूर्यकांत द्विवेदी
तुलसी
AMRESH KUMAR VERMA
💐खामोश जुबां 💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
तेरी याद में
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Loading...