Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

नारी : मातृभूमि

सुकुमार कुमुदिनी , लिए कृपाण ,
नयनों में लिए बदले के बाण ।
पति संग देशसम्मान बचाने को ,
कर दिए मातृभूमि पर निछावर प्राण ।।

हाँ मैं नारी हूँ ,
कठिनाईयों से न हारी हूँ ।
जब जब बन आयी सम्मान पर ,
गर्जन कर दुश्मन पर भारी हूँ ।।

निहारिका सिंह

239 Views
You may also like:
उस पथ पर ले चलो।
Buddha Prakash
पिता
Neha Sharma
ओ मेरे !....
ईश्वर दयाल गोस्वामी
*!* "पिता" के चरणों को नमन *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
"बेटी के लिए उसके पिता "
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
हमें क़िस्मत ने आज़माया है ।
Dr fauzia Naseem shad
✍️बदल गए है ✍️
Vaishnavi Gupta
दर्द इनका भी
Dr fauzia Naseem shad
छोड़ दो बांटना
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
राष्ट्रवाद का रंग
मनोज कर्ण
बेटी का पत्र माँ के नाम
Anamika Singh
सत्यमंथन
मनोज कर्ण
माँ (खड़ी हूँ मैं बुलंदी पर मगर आधार तुम हो...
Dr Archana Gupta
बेटियों तुम्हें करना होगा प्रश्न
rkchaudhary2012
✍️इतने महान नही ✍️
Vaishnavi Gupta
पिता
Deepali Kalra
पितु संग बचपन
मनोज कर्ण
जिन्दगी का सफर
Anamika Singh
"हैप्पी बर्थडे हिन्दी"
पंकज कुमार कर्ण
दिल में रब का अगर
Dr fauzia Naseem shad
श्रेय एवं प्रेय मार्ग
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मिठाई मेहमानों को मुबारक।
Buddha Prakash
दर्द ख़ामोशियां
Dr fauzia Naseem shad
एसजेवीएन - बढ़ते कदम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मुँह इंदियारे जागे दद्दा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पापा
सेजल गोस्वामी
बड़ी मुश्किल से खुद को संभाल रखे है,
Vaishnavi Gupta
समय को भी तलाश है ।
Abhishek Pandey Abhi
पापा क्यूँ कर दिया पराया??
Sweety Singhal
गर्मी का रेखा-गणित / (समकालीन नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Loading...