Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

नारी एक कल्पवृक्ष

प्रेम नारी का जीवन है |अपनी इस निधि को वो आदिकाल से पुरुष पर बिना किसी स्वार्थ के पूर्ण समर्पण और इमानदारी के साथ निछावर करती आई है |कभी न रुकने वाले इस निस्वार्थ प्रेम रुपी निर्झर ने पुरुष को शांति और शीतलता दी है | स्त्री को एक कल्पवृक्ष के रूप में भी देखा जा सकता है जिसके सानिध्य में बैठने पर न केवल पुरुष को आत्म तृप्ति मिलती है अपितु उसका पूरा परिवार संतुष्टि प्राप्त करता है |
कई दिनों पहले एक महापुरुष की वाणी सुनने का सौभाग्य मिला उन्होंने एक इतना सुंदर विचार दिया जिसकी मौलिकता जिसकी सत्यता ने मुझे ये लेख लिखने के लिए प्रोत्साहित किया |
वो महापुरुष बता रहे थे की यदि सारे संसार से केवल स्त्रीयों को हटा दिया जाए तो इस समूचे ब्रह्माण्ड का विनाश निश्चित है क्योंकि स्त्री के अभाव में तो सृष्टि आगे चल ही नही सकती शक्ति के अभाव में शिव भी शव समान हो जाते है |बात सोलह आने सच भी है स्त्री ही परिवार और समाज की निर्मात्री है वो ही वंश परम्परा को आगे बढ़ती है| लेकिन उनकी बात यहाँ पर ही समाप्त नही हुई उनहोंने आगे बोला की यदि इस समूचे ब्रह्माण्ड से पुरुष जाति को समाप्त कर दिया जाए तब भी स्त्री अकेले ही स्त्री का न केवल निर्माण कर सकती है बल्कि उसे आगे भी बढा सकती है |ये विचार सुनकर मुझे बढा आश्चर्य हुआ की ये कैसे सम्भव है मैं उन महापुरुष से ये पूछ बैठा की महाराज ऐसे कैसे अम्भव है क्योंकि स्त्री तो धरती होते है और पुरुष आकाश के समान है और जब आकाश रुपी पुरुष का स्नेह बीजके रूप में जब धरती के गर्भ में पहुँचता है तब ही तो धरती से कोमल पोधों का सृजन होता है |तब उन्होंने कहा की जो बीजआकाश रुपी पुरुष धरती रुपी स्त्री को सौंप देता है स्त्री उसके द्वारा हजारों बीज बना लेती है तो जो गर्भवती महिलाएं इस धरा पर रह जायेंगी वो पुरुष का अभाव होने के बाद भी उनके बीज से सृष्टि का निर्माण करने में सक्षम रहेगी जबकि पुरुष के पास ये योग्यता नही है तो इस प्रकार यदि सृष्टिसे पुरुष समाप्त भी हो जाएँ तो स्त्रियाँ तो सृष्टि फिर से रच देने में सक्षम है लेकिन यदि समूची स्त्री जाति नष्ट हो जाए तो पुरुष स्त्री को नही रच सकता |
क्योंकि नारी सनातन शक्ति है और ये सामान्य जीवन में देखने में भी आता है की स्त्री अपने जीवन में इतने सामाजिक दायित्वों को उठाकर पुरुष के साथ कंधे से कन्धा मिलाकर चलती है | यदि उन दायित्वों का भार केवल पुरुष के कंधे पर ही डाल दिया जाए तो पुरुष मझदार में ही असंतुलित होकर गिर पढ़े | जब कोई व्यक्ति अपने भवन का निर्माण करता है तो सबसे पहले नीव खुदवाता है ना केवल खुदवाता है बल्कि अच्छे से अच्छे चुने मिट्टी का प्रयोग करता है जिससे की एक मजबूत नीव के उपर एक सुद्रण भवन स्थापित हो सके उसी प्रकार स्त्री भी परिवार में मूक रूप से नीव के पत्थर का कार्य करती है जिस पर पूरा परिवार निर्भर करता है | नारी के आभाव में एक संस्कारी सभ्य परिवार की कल्पना नही की जा सकती |अत: नारी हर परिस्थिति में वन्दनीय है वो पुरुष की पथ प्रदर्शिका है उसकी प्रेरणा स्त्रोत है |पुरुष सदैव स्त्री का ऋणी रहा है और आगे भी रहेगा |

413 Views
You may also like:
मिसाले हुस्न का
Dr fauzia Naseem shad
कोई मरहम
Dr fauzia Naseem shad
ऐ ज़िन्दगी तुझे
Dr fauzia Naseem shad
" मां" बच्चों की भाग्य विधाता
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
हे तात ! कहा तुम चले गए...
मनोज कर्ण
हिय बसाले सिया राम
शेख़ जाफ़र खान
दूल्हे अब बिकते हैं (एक व्यंग्य)
Ram Krishan Rastogi
प्यार की तड़प
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पेशकश पर
Dr fauzia Naseem shad
💔💔...broken
Palak Shreya
तू तो नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
जो आया है इस जग में वह जाएगा।
Anamika Singh
【6】** माँ **
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
इश्क कोई बुरी बात नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मर्द को भी दर्द होता है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
माँ तुम अनोखी हो
Anamika Singh
यादें वो बचपन के
Khushboo Khatoon
पिता का सपना
श्री रमण 'श्रीपद्'
मुझे आज भी तुमसे प्यार है
Ram Krishan Rastogi
अपनी आदत में
Dr fauzia Naseem shad
!!*!! कोरोना मजबूत नहीं कमजोर है !!*!!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
न कोई जगत से कलाकार जाता
आकाश महेशपुरी
मुझको कबतक रोकोगे
Abhishek Pandey Abhi
फहराये तिरंगा ।
Buddha Prakash
बेटी का पत्र माँ के नाम
Anamika Singh
Kavita Nahi hun mai
Shyam Pandey
पिता की अभिलाषा
मनोज कर्ण
पिता
Dr. Kishan Karigar
*पापा … मेरे पापा …*
Neelam Chaudhary
क्या लगा आपको आप छोड़कर जाओगे,
Vaishnavi Gupta
Loading...