Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Mar 6, 2022 · 1 min read

नारियां

नारियों की इतिहास देख
जिसे पढ़ने का ना था स्वत्व
पढ़ने लिखने वाले मानवी को
उसके साथ ससुर देते थे ताने ।

आज नारियों हम मनुजों से
उत्कष जाती आगे ही आगे
आज वनिताओं अपनी यहां
लहराती फिरती है आह्वान ।

आज नारियों को भारत में
मर्त्य से है विपुल अधिकार
आज रामणी को पितृ धन में
भाइयों इतना‌ स्वत्व, प्रभुत्व ।

उथल पुथल कर डाली जिसने
वही भारत आज की कामिनी
आज की नारी अब किसी से
रहती कबों न पिछु इस भव में ।

जिनकी सामर्थ्य को देखकर
दुश्मन के छूट रहे हैं पसीनें
ऊंची बुलंदी पर जाती रही
वही भारत की नारी है ….

1 Like · 189 Views
You may also like:
स्मृति चिन्ह
Shyam Sundar Subramanian
सावधान हो जाओ, मुफ्त रेवड़ियां बांटने बालों
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
वो पहलू में आयें तभी बात होगी।
सत्य कुमार प्रेमी
पिता हैं छाँव जैसे
अंकित शर्मा 'इषुप्रिय'
गीत ग़ज़लें सदा गुनगुनाते रहो।
सत्य कुमार प्रेमी
चिड़ियाँ
Anamika Singh
प्यार करते हो मुझे तुम तो यही उपहार देना
Shivkumar Bilagrami
साँझ ढल रही है
अमित नैथानी 'मिट्ठू' (अनभिज्ञ)
तमन्नाओं का संसार
DESH RAJ
इश्क ए बंदगी में।
Taj Mohammad
नागफनी बो रहे लोग
शेख़ जाफ़र खान
रिमोट :: वोट
DESH RAJ
हवा का हुक़्म / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जुनून।
Taj Mohammad
सुविचार
Godambari Negi
जिंदगी में जो उजाले दे सितारा न दिखा।
सत्य कुमार प्रेमी
*जो हुकुम सरकार (गीतिका)*
Ravi Prakash
ग्रामीण चेतना के महाकवि रामइकबाल सिंह ‘राकेश
श्रीहर्ष आचार्य
याद मेरी तुम्हे आती तो होगी
Ram Krishan Rastogi
तो क्या होगा?
Shekhar Chandra Mitra
खुशियों भरे पल
surenderpal vaidya
सितम पर सितम।
Taj Mohammad
यथार्था,,, दर्पणता,,, सरलता।
Taj Mohammad
पाकीज़ा इश्क़
VINOD KUMAR CHAUHAN
प्रेम की परिभाषा
Nitu Sah
रंगमंच है ये जगत
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
✍️आओ हम सोचे✍️
'अशांत' शेखर
विलुप्त होती हंसी
Dr Meenu Poonia
✍️राहे हमसफ़र✍️
'अशांत' शेखर
1971 में आरंभ हुई थी अनूठी त्रैमासिक पत्रिका "शिक्षा और...
Ravi Prakash
Loading...