Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Jan 2023 · 1 min read

नाम है इनका, राजीव तरारा

*नाम है इनका, राजीव तरारा*
पिता तोताराम जी माता कृष्णा।
ना कोई दोष ना कोई तृष्णा।
बड़ी बहन प्रभा छोटी मिथलेश,
छोटा भाई संजीव कुमार।
स्पष्ट छवि प्रभाव अपारा।
नाम है इनका, राजीव तरारा।।१।।
गांव तरारा पोस्ट उझारी,
संघर्षी साहसी आज्ञाकारी।
तहसील हसनपुर थाना नगली,
बात साफ कहें ना कोई चुगली।
जिला अमरोहा का सहारा,
नाम है इनका, राजीव तरारा।।२।।
वाचाल कुशल न्यायप्रिय,
दूरदर्शी जागरूक सर्वप्रिय।
सतर्क ईमानदार ओजस्वी तेज,
आकर्षक व्यक्तित्व सुन्दर छवि।
प्रत्येक को सुना, जिसने भी पुकारा।
नाम है इनका, राजीव तरारा।।३।।
जो भी इनके द्वार पर आए,
न्याय तुरन्त मिले और हर्षाए।
काम किया जीता विश्वास।
सबका साथ, सबका विकास।
क्षेत्र में दिखे, इनका अलग नजारा।
नाम है इनका, राजीव तरारा।।४।।
सोच बड़ी थी, काम बड़ा किया।
पैसों से नहीं फ्री काम किया।
हिन्दू मुस्लिम सिख ईसाई,
सदैव करते सबकी भलाई।
परहित में अपना जीवन, सब पर वारा।
नाम है इनका, राजीव तरारा।।५।।
सर्वांगीण विकास किया है।
भला सबका हो, प्रयास किया है।
भ्रष्टाचार का नाश किया है।
ईमानदारी का परिचय दिया है।
कितनों का जीवन अब तक, संवारा।
नाम है इनका, राजीव तरारा।।६।।
ऐसा व्यक्तित्व मुश्किल है, मिलना।
सब विधायकों से, तुलना करना।
गुणों की खान कर्तव्यनिष्ठ,
आचार विचार इनके विशिष्ट।
पड़ोसी है दुष्यन्त कुमार, थोड़ा कवि न्यारा।
नाम है इनका, राजीव तरारा।।७।।
कवि-दुष्यन्त कुमार (स.अ.),
गांव- तरारा, जिला अमरोहा मो. नं. 9568140365

Language: Hindi
1 Like · 62 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Jitendra Kumar Noor
मोदी क्या कर लेगा
मोदी क्या कर लेगा
Satish Srijan
गुरुजन को अर्पण
गुरुजन को अर्पण
Rajni kapoor
ਅੱਜ ਮੇਰੇ ਲਫਜ਼ ਚੁੱਪ ਨੇ
ਅੱਜ ਮੇਰੇ ਲਫਜ਼ ਚੁੱਪ ਨੇ
rekha mohan
किस्मत की लकीरों पे यूं भरोसा ना कर
किस्मत की लकीरों पे यूं भरोसा ना कर
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
✍️परीक्षा की सच्चाई✍️
✍️परीक्षा की सच्चाई✍️
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
गौमाता की व्यथा
गौमाता की व्यथा
Shyam Sundar Subramanian
मयस्सर नहीं अदब..
मयस्सर नहीं अदब..
Vijay kumar Pandey
कश्ती औऱ जीवन
कश्ती औऱ जीवन
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
प्रणय 6
प्रणय 6
Ankita Patel
कौन सोचता बोलो तुम ही...
कौन सोचता बोलो तुम ही...
डॉ.सीमा अग्रवाल
मुक्तक
मुक्तक
पंकज कुमार कर्ण
■ प्रेरक / हताश विद्यार्थियोँ के लिए...
■ प्रेरक / हताश विद्यार्थियोँ के लिए...
*Author प्रणय प्रभात*
कुंडलिया छंद
कुंडलिया छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
कोई अपनों को उठाने में लगा है दिन रात
कोई अपनों को उठाने में लगा है दिन रात
Shivkumar Bilagrami
तलाश
तलाश
Dr. Rajiv
💐प्रेम कौतुक-432💐
💐प्रेम कौतुक-432💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अपनों की ठांव .....
अपनों की ठांव .....
Awadhesh Kumar Singh
व्यवहार कैसा होगा बोल बता देता है..,
व्यवहार कैसा होगा बोल बता देता है..,
कवि दीपक बवेजा
जब नयनों में उत्थान के प्रकाश की छटा साफ दर्शनीय हो, तो व्यर
जब नयनों में उत्थान के प्रकाश की छटा साफ दर्शनीय हो, तो व्यर
Nav Lekhika
पिता की आंखें
पिता की आंखें
अभिषेक पाण्डेय ‘अभि ’
ये दुनिया है
ये दुनिया है
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
अंधेरों में अस्त हो, उजाले वो मेरे नाम कर गया।
अंधेरों में अस्त हो, उजाले वो मेरे नाम कर गया।
Manisha Manjari
मारा जाता सर्वदा, जिसका दुष्ट स्वभाव (कुंडलिया)*
मारा जाता सर्वदा, जिसका दुष्ट स्वभाव (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
आप तो आप ही है
आप तो आप ही है
gurudeenverma198
इश्क बाल औ कंघी
इश्क बाल औ कंघी
Sandeep Pande
लिखने से रह गये
लिखने से रह गये
Dr fauzia Naseem shad
मुस्कान
मुस्कान
नवीन जोशी 'नवल'
कान खोलकर सुन लो
कान खोलकर सुन लो
Shekhar Chandra Mitra
मां का हुआ आगमन नव पल्लव से हुआ श्रृंगार
मां का हुआ आगमन नव पल्लव से हुआ श्रृंगार
Charu Mitra
Loading...