Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Jul 2023 · 1 min read

नाम सुनाता

भोले सुनें ले खाली,कुछू बोलें ले नाही
कैसे गऊरा ऐ भोला,गईली तोह पे लुभाई
सोची सोची के ए भोले बाबा हमरो दिमाग चकराता
सावन में हर शिवालय से जय शिव जय शिव के नाम सुनाता‌‌

जब भांगे धतूरा से बावे राऊर नाता
त टिकरी ,पेठा से काहे शिवालय पूजाता
देखी देखी के हमरो अब मन बऊराता
सावन में चारों दिशाओं से ऊं नमः शिवाय के जाप सुनाता

सुन लें बानी गउरा तोहे ए भोले बाबा पावे खातिर छिन्मस्तिका के तक रूप धइले बारी
न जाने कौन गुण तोहरा में देखी के ए भोले बाबा एक अगरभंगी के साथ लग्न लगई ले बारी
सुनी सुनी के नितु के जािया घबराता
सावन में खाली शिवालय नाही हर धाम पूजाता।।
नितु साह(हुसेना बंगरा)सीवान-बिहार

Language: Bhojpuri
Tag: गीत
2 Likes · 299 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
फ़ितरत
फ़ितरत
Ahtesham Ahmad
"पसंद और प्रेम"
पूर्वार्थ
— नारी न होती तो —
— नारी न होती तो —
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
ମୁଁ ତୁମକୁ ଭଲପାଏ
ମୁଁ ତୁମକୁ ଭଲପାଏ
Otteri Selvakumar
*Near Not Afar*
*Near Not Afar*
Poonam Matia
नौजवान सुभाष
नौजवान सुभाष
Aman Kumar Holy
जीवन भर मरते रहे, जो बस्ती के नाम।
जीवन भर मरते रहे, जो बस्ती के नाम।
Suryakant Dwivedi
हमराही
हमराही
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
सच में शक्ति अकूत
सच में शक्ति अकूत
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
देखा है।
देखा है।
Shriyansh Gupta
कहाॅं तुम पौन हो।
कहाॅं तुम पौन हो।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
*अग्रसेन को नमन (घनाक्षरी)*
*अग्रसेन को नमन (घनाक्षरी)*
Ravi Prakash
(मुक्तक) जऱ-जमीं धन किसी को तुम्हारा मिले।
(मुक्तक) जऱ-जमीं धन किसी को तुम्हारा मिले।
सत्य कुमार प्रेमी
वक्त सबको पहचानने की काबिलियत देता है,
वक्त सबको पहचानने की काबिलियत देता है,
Jogendar singh
चलो कह भी दो अब जुबां की जुस्तजू ।
चलो कह भी दो अब जुबां की जुस्तजू ।
शेखर सिंह
पुत्र एवं जननी
पुत्र एवं जननी
रिपुदमन झा "पिनाकी"
#शेर
#शेर
*प्रणय प्रभात*
यह जो तुम कानो मे खिचड़ी पकाते हो,
यह जो तुम कानो मे खिचड़ी पकाते हो,
Ashwini sharma
भए प्रगट कृपाला, दीनदयाला,
भए प्रगट कृपाला, दीनदयाला,
Shashi kala vyas
गनर यज्ञ (हास्य-व्यंग्य)
गनर यज्ञ (हास्य-व्यंग्य)
गुमनाम 'बाबा'
हमारी हार के किस्सों के हिस्से हो गए हैं
हमारी हार के किस्सों के हिस्से हो गए हैं
सिद्धार्थ गोरखपुरी
वो जो आए दुरुस्त आए
वो जो आए दुरुस्त आए
VINOD CHAUHAN
मेनका की ‘मी टू’
मेनका की ‘मी टू’
Dr. Pradeep Kumar Sharma
हवाओं ने बड़ी तैय्यारी की है
हवाओं ने बड़ी तैय्यारी की है
Shweta Soni
“मेरे जीवन साथी”
“मेरे जीवन साथी”
DrLakshman Jha Parimal
तिरंगा बोल रहा आसमान
तिरंगा बोल रहा आसमान
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
खेल खिलाड़ी
खेल खिलाड़ी
Mahender Singh
इल्ज़ाम ना दे रहे हैं।
इल्ज़ाम ना दे रहे हैं।
Taj Mohammad
गज़ल सी कविता
गज़ल सी कविता
Kanchan Khanna
पता नहीं कब लौटे कोई,
पता नहीं कब लौटे कोई,
महेश चन्द्र त्रिपाठी
Loading...