Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#3 Trending Author
Jul 13, 2022 · 1 min read

नामे बेवफ़ा।

अक्सर ही आंखों की नमी को छुपा लेते है।
अपने लबों से कभी नामे बेवफ़ा ना लेते है।।

✍️✍️ ताज मोहम्मद ✍️✍️

1 Like · 2 Comments · 45 Views
You may also like:
लड़के और लड़कियों मे भेद-भाव क्यों
Anamika Singh
सच में ईश्वर लगते पिता हमारें।।
Taj Mohammad
*सारथी बनकर केशव आओ (भक्ति-गीत)*
Ravi Prakash
नीड़ फिर सजाना है
Saraswati Bajpai
अगर तुम सावन हो
bhandari lokesh
मेरी छवि
Anamika Singh
पिता
Meenakshi Nagar
दिल लगाऊं कहां
Kavita Chouhan
चाहे मत छूने दो मुझको
gurudeenverma198
शहीद भारत यदुवंशी को मेरा नमन
Surabhi bharati
कांटों पर उगना सीखो
VINOD KUMAR CHAUHAN
ग़ज़ल
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
गुफ़्तगू का ढंग आना चाहिए
अश्क चिरैयाकोटी
सफल होना चाहते हो
Krishan Singh
नेताओं के घर भी बुलडोजर चल जाए
Dr. Kishan Karigar
प्रेम दो दिल की धड़कन है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
निभाता उम्रभर तेरा साथ
gurudeenverma198
मां की दुआ है।
Taj Mohammad
अब नही छल सकते हो
Anamika Singh
मदहोश रहे सदा।
Taj Mohammad
यह चिड़ियाँ अब क्या करेगी
Anamika Singh
हरियाली और बंजर
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
गुज़रते कैसे हैं ये माह ओ साल मत पूछो
Anis Shah
" बहू और बेटी "
Dr Meenu Poonia
दो लफ़्ज़ मोहब्बत के
Dr fauzia Naseem shad
यत्र नार्यस्तु पूज्यन्ते
Prakash Chandra
संस्मरण:भगवान स्वरूप सक्सेना "मुसाफिर"
Ravi Prakash
ग़ज़ल
Jitendra Kumar Noor
ख़्वाहिश पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
“ आत्ममंथन; मिथिला,मैथिली आ मैथिल “
DrLakshman Jha Parimal
Loading...