Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#9 Trending Author
Jul 2, 2022 · 1 min read

नादानियाँ

धूप मे चलती रही मै
छाँव की तलाश करती रही मैं
इस क्रम मे कभी उल्टा
कभी सीधा पाँव धरती रही मैं
नादानियाँ बहुत थी जीवन में
इसलिए गलत और सही का
फर्क नही समझ सकी मै।
जब ठेस लगी जीवन मे जोर से
तब जाके मेरी आँख खुली
खुशी इस बात की थी मुझे कि
ज्यादा देर नही हुई थी।
वक्त रहते हुए यारों
गिर कर संभल गई मै ।

~अनामिका

2 Likes · 2 Comments · 81 Views
You may also like:
फिजूल।
Taj Mohammad
जीवन के उस पार मिलेंगे
Shivkumar Bilagrami
✍️✍️यज़दान✍️✍️
'अशांत' शेखर
मेरे सपने
Anamika Singh
आरज़ू
shabina. Naaz
कठपुतली न बनना हमें
AMRESH KUMAR VERMA
प्रेम में त्याग
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मौसम
AMRESH KUMAR VERMA
वो प्यार कैसा
Nitu Sah
'गुरु' (देव घनाक्षरी)
Godambari Negi
ज़िंदगी की हक़ीक़त से
Dr fauzia Naseem shad
दिल की आवाज़
Dr fauzia Naseem shad
हर अश्क कह रहा है।
Taj Mohammad
दूध होता है लाजवाब
Buddha Prakash
✍️यही तो आखिर सच है...!✍️
'अशांत' शेखर
दीये की बाती
सूर्यकांत द्विवेदी
संघर्ष
Anamika Singh
✍️दिव्याची महत्ती...!✍️
'अशांत' शेखर
जाने कैसा दिन लेकर यह आया है परिवर्तन
आकाश महेशपुरी
अपनी पलकों को
Dr fauzia Naseem shad
हम भूल तो नहीं सकते
Dr fauzia Naseem shad
✍️✍️जरी ही...!✍️✍️
'अशांत' शेखर
आम ही आम है !
हरीश सुवासिया
कोई मरता नही है
Anamika Singh
श्रमिक जो हूँ मैं तो...
मनोज कर्ण
कहो‌ नाम
Varun Singh Gautam
खस्सीक दाम दस लाख
Ranjit Jha
सच बोलो
shabina. Naaz
सगुण
DR ARUN KUMAR SHASTRI
शायद मुझसा चोर नहीं मिल सकेगा
gurudeenverma198
Loading...