Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#1 Trending Author
May 8, 2022 · 2 min read

नाथूराम गोडसे

भारत के इतिहास
विभाजन के समय को ,
काला समय के रूप में
हमेशा देखा जाएगा।
जब कुछ अपने ही मिलकर
भारत माता को बाँट रहे थे।
अपने स्वार्थ के लिए कुछ अपने ही,
माँ का आँचल फाड़ रहे थे।

उनको न था मतलब
किसी भी आजादी से ,
सिर्फ वह अपने स्वार्थ के
लिए आगे आ रहे थे ।

यह बात कुछ आजादी के
परवानों को अच्छा न लग रहा था।
इसलिए वह बार- बार जाकर
गाँधी जी से मिन्नते कर रहा था ,
और ऐसा न होने देने की
मांग कर रहा था।

उन लोगों को पसंद न था कि
हम इतनी बड़ी कीमत पर आजादी लें ।
उन्हें भरोसा था अपने दम पर ,
कि हम आजादी लेकर रहेंगे।

पर उन्हें भारत माता के
आबरू को यों तार- तार
होने देना मंजूर न था।
कुछ तो ऐसे थे जो इस विभाजन,
के नाम सुनते ही मर गए थे।

पर कुछ ऐसे लोग भी थे,
जो सिर्फ सत्ता में आना चाहते थे।
चाहे कीमत कितना भी बड़ा हो ,
पर वह ऐसे या वैसे अपना,
स्वार्थ निकालना चाहते थे।

पर आजादी के परवानों के लिए,
यह सबसे बड़ी दुख की घड़ी थी,
इस दुख की घड़ी को झेल रहा
एक परवाना था,
नाथूराम गोडसे।

उनसे भारत माता का यह
तकलीफ देखा न जा रहा था ,
उनका कहना था कि
आजादी हम आज नहीं
तो कल ले लेंगें।

पर भारत माता के आँचल
से खिलवाड़ न होने देंगे,
अंग्रेजो की यह साजिश हम
कामयाब न होने देंगे।
आजादी की कीमत भारत
माता को बाँट कर न देंगें।

पर कोई भी उनकी
बात न सुन रहा था।
सब अपने -अपने स्वार्थ
साधने में लगे हुए थे ।

इस विभाजन को
न रूकता हुआ देखकर ,
नाथूराम गोडसे की
क्रोध की सीमा न रही,
और उसने क्रोध में आकर
गाँधी जी पर गोली चला दी।
जिसमें गाँधी जी मारे गये,
यह देश के लिए बहुत
बुरा समय था।

गाँधी जी को मारकर
नाथूराम गोडसे ने
बुरा किया था।
इस बात से मैं भी
इनकार नही कर रही हूँ।
पर वह एक हत्यारा था,
इस बात पर भी मैं
इकरार नही करती हूँ।

क्योंकि भारत का विभाजन
के समय कई आजादी के
परवानों ने के लिए दुखदाई था।
कितनो ने अपना मानसिक
संतुलन खोया था।
वे क्या करे रहे थे
उन्हें खुद ही पता न था।
क्योंकि वह घड़ी ही कुछ
इस तरह का था।

पर भारत विभाजन का
जो निर्णय लिया गया था।
क्या यह निर्णय सही था ?
यह बात मैं आपसे पूँछ रही हूँ।

~अनामिका

1 Like · 2 Comments · 90 Views
You may also like:
जीवनदाता वृक्ष
AMRESH KUMAR VERMA
फरिश्ता बन गए हो।
Taj Mohammad
भगवान की तलाश में इंसान
Ram Krishan Rastogi
बहन का जन्मदिन
Khushboo Khatoon
【20】 ** भाई - भाई का प्यार खो गया **
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
आ सजाऊँ भाल पर चंदन तरुण
Pt. Brajesh Kumar Nayak
दीप तुम प्रज्वलित करते रहो।
Taj Mohammad
"निर्झर"
Ajit Kumar "Karn"
*प्रखर राष्ट्रवादी श्री रामरूप गुप्त*
Ravi Prakash
तुम्हें सुकूँ सा मिले।
Taj Mohammad
रावण का प्रश्न
Anamika Singh
माँ की याद
Meenakshi Nagar
💐प्रेम की राह पर-29💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
आजादी का जश्न
DESH RAJ
परीक्षा एक उत्सव
Sunil Chaurasia 'Sawan'
" नखरीली शालू "
Dr Meenu Poonia
दो जून की रोटी उसे मयस्सर
श्री रमण
✍️बुलडोझर✍️
"अशांत" शेखर
जाने कहां वो दिन गए फसलें बहार के
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
बारिश
AMRESH KUMAR VERMA
संविधान निर्माता को मेरा नमन
Surabhi bharati
ना मायूस हो खुदा से।
Taj Mohammad
आम ही आम है !
हरीश सुवासिया
तेरी सुंदरता पर कोई कविता लिखते हैं।
Taj Mohammad
उनकी आमद हुई।
Taj Mohammad
देश के हालात
Shekhar Chandra Mitra
" नाखून "
Dr Meenu Poonia
मां का आंचल
VINOD KUMAR CHAUHAN
कविता पर दोहे
Ram Krishan Rastogi
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग ५]
Anamika Singh
Loading...