Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 4, 2021 · 1 min read

नाजायज परम्परा (कन्या भ्रूण हत्या)

अनचाहे
गर्भ की दीवारों में कैद
जो पंछी की तरह पिंजडे से
बाहर जाना चाहती है
कन्या है
सुनते ही गृह प्रवेश निषेध की
तख्ती लगा दी जाती है
कारण पूछने पर
बोझ उठाने में असमर्थ
बेरहमी से जवाब दिया जाता है
जहां से आई थी वही भेज दिया जाता है
बाहर आते हैं
उसके जिस्म के टुकड़े
अपराधी को हाथकड़ियां पहनाने वाले
कानून की आँखो में
धूल झोंक दी जाती है
नाजायज परम्परा जारी है लगातार
परिवर्तन की प्रतीक्षा है

1 Like · 264 Views
You may also like:
कुछ काम करो
Anamika Singh
बे-पर्दे का हुस्न।
Taj Mohammad
उनकी आमद हुई।
Taj Mohammad
'बेटियाॅं! किस दुनिया से आती हैं'
Rashmi Sanjay
इस तरहां ऐसा स्वप्न देखकर
gurudeenverma198
हैं सितारे खूब, सूरज दूसरा उगता नहीं।
सत्य कुमार प्रेमी
"हर घर तिरंगा"देश भक्ती गीत
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
वक्त को कब मिला है ठौर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
तीरगी से निबाह करते रहे
Anis Shah
भगवान परशुराम
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जाग्रत हिंदुस्तान चाहिए
Pt. Brajesh Kumar Nayak
उसे देख खिल जातीं कलियांँ
श्री रमण 'श्रीपद्'
रहे इहाँ जब छोटकी रेल
आकाश महेशपुरी
#क्या_पता_मैं_शून्य_हो_जाऊं
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
मुकरिया__ चाय आसाम वाली
Manu Vashistha
"रिश्ते"
Ajit Kumar "Karn"
अनामिका के विचार
Anamika Singh
वक्त दर्पण दिखा दे तो अच्छा ही है।
Renuka Chauhan
गीत
Kanchan Khanna
आरजू
Kanchan Khanna
'सनातन ज्ञान'
Godambari Negi
एक प्रयास अपने लिए भी
Dr fauzia Naseem shad
# महकता बदन #
DR ARUN KUMAR SHASTRI
अचार का स्वाद
Buddha Prakash
चल रहा वो
Kavita Chouhan
लहजा
सिद्धार्थ गोरखपुरी
इंद्रधनुष
Arjun Chauhan
सारे निशां मिटा देते हैं।
Taj Mohammad
✍️आरसे✍️
"अशांत" शेखर
मुकरियां __नींद
Manu Vashistha
Loading...