Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Aug 6, 2022 · 1 min read

नाउम्मीदी

पेड़ के नीचे
यह सोचकर बैठी थी कि
पल दो पल
आराम से इसकी छाया में
बैठूंगी
जैसे ही बैठने को हुई
वह मुझ पर खुद को
गिराने को
मुझे मारने को
मेरे अरमानों की लाश
एक पेड़ से गिरे
सूखे झड़े हुए पत्तों की तरह
जमीन पर बिछाने को
पहले से ही तैयार बैठा था
जिसने कभी किसी का
बुरा नहीं किया था
उससे इतनी नाउम्मीदी
हाथ लगेगी
यह उम्मीद मुझे
दूर दूर तक
सपने में भी नहीं थी।

मीनल
सुपुत्री श्री प्रमोद कुमार
इंडियन डाईकास्टिंग इंडस्ट्रीज
सासनी गेट, आगरा रोड
अलीगढ़ (उ.प्र.) – 202001

38 Views
You may also like:
🌺🌺प्रेम की राह पर-47🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बदलती दुनिया
AMRESH KUMAR VERMA
लागेला धान आई ना घरे
आकाश महेशपुरी
भरमा रहा है मुझको तेरे हुस्न का बादल।
सत्य कुमार प्रेमी
सद् गणतंत्र सु दिवस मनाएं
Pt. Brajesh Kumar Nayak
डिजिटल प्यार था हमरा
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
एक पल में जीना सीख ले बंदे
Dr.sima
तेरी सलामती।
Taj Mohammad
प्रलयंकारी कोरोना
Shriyansh Gupta
बेटियां।
Taj Mohammad
मोतियों की सुनहरी माला
DESH RAJ
“ गलत प्रयोग से “ अग्निपथ “ नहीं बनता बल्कि...
DrLakshman Jha Parimal
जीत कर भी जो
Dr fauzia Naseem shad
ख्वाब रंगीला कोई बुना ही नहीं ।
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
تیری یادوں کی خوشبو فضا چاہتا ہوں۔
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
अपने घर से हार गया
सूर्यकांत द्विवेदी
एक दिन तू भी।
Taj Mohammad
कहां मालूम था इसको।
Taj Mohammad
दुआओं की नौका...
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
लांगुरिया
Subhash Singhai
आंसू
Harshvardhan "आवारा"
मुझसे मेरा हाल न पूछे
Shiva Awasthi
उबारो हे शंकर !
Shailendra Aseem
नोटबंदी ने खुश कर दिया
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
दो पल मोहब्बत
श्री रमण 'श्रीपद्'
मेरी आजादी बाकी है
Deepak Kohli
नर्मदा के घाट पर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
शायरी
श्याम सिंह बिष्ट
✍️कसम खुदा की..!✍️
'अशांत' शेखर
मां ने।
Taj Mohammad
Loading...