Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 May 2022 · 1 min read

महँगाई

हमारी जान जाती है न जाती है ये महँगाई
नई सरकार बनते फिर रुलाती है ये महँगाई

यहाँ हर बात में यारों ख़ुशी हम ढूँढ लेते हैं
मगर सर दर्द रोजाना बढ़ाती है ये महँगाई

चलन अब बंद करना है रिवाजों में दिखावे का
चढ़ाते लोग हैं लेकिन गिराती है ये महँगाई

कमाई आजकल ईमान वालों की घटी है पर
ठगों की राह में मखमल बिछाती है ये महँगाई

कहीं ‘आकाश’ जाओ तुम मिलेगा कुछ नहीं सस्ता
सभी को एक उँगली पर नचाती है ये महँगाई

– आकाश महेशपुरी
दिनांक- 17/05/2022

8 Likes · 5 Comments · 458 Views
You may also like:
चाय-दोस्ती - कविता
Kanchan Khanna
आओगे मेरे द्वार कभी
Kavita Chouhan
सच्चे मित्र की पहचान
Ram Krishan Rastogi
✍️पढ़ रही हूं ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
पिता श्रेष्ठ है इस दुनियां में जीवन देने वाला है
सतीश मिश्र "अचूक"
करवा चौथ (लघुकथा)
Ravi Prakash
अपने किसी पद का तू
gurudeenverma198
🚩फूलों की वर्षा
Pt. Brajesh Kumar Nayak
मुकरियां __नींद
Manu Vashistha
मरहम नहीं बस दुआ दे दो ।
Buddha Prakash
दुआ
Alok Saxena
" मीनू की परछाई रानू "
Dr Meenu Poonia
मुस्कुराइये.....
Chandra Prakash Patel
दिल की ये आरजू है
श्री रमण 'श्रीपद्'
बेटियाँ, कविता
Pakhi Jain
कह दूँ बात तो मुश्किल
Dr. Sunita Singh
✍️स्त्री : दोन बाजु✍️
'अशांत' शेखर
पैरासाइट
Shekhar Chandra Mitra
फूल अब शबनम चाहते है।
Taj Mohammad
पार्क
मनोज शर्मा
महारानी एलिजाबेथ द्वितीय
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
चमचागिरी
सूर्यकांत द्विवेदी
पीयूष छंद-पिताजी का योगदान
asha0963
पिता पराए हो गए ..
ओनिका सेतिया 'अनु '
न्याय
विजय कुमार 'विजय'
सास-बहू
Rashmi Sanjay
आ जाओ राम।
Anamika Singh
ईर्ष्या
Shyam Sundar Subramanian
हे चौथ माता है विनय यही, अटल प्रेम विश्वास रहे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कितना आंखों ने
Dr fauzia Naseem shad
Loading...