Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#28 Trending Author

नहीं बचेगी जल विन मीन

सिमट रहे जल जंगल जमीन, क्यों तुम बजा रहे हो वीन
नहीं बचाया तुमने इनको,हो जाओगे तुम भी लीन
आंख मूंदकर सोते हो, क्यों तुम बन बैठे हो दीन
तुम नहीं तो अगली पीढ़ी,हो जाएगी जीवन हीन
जल जंगल जमीन बचाओ, नहीं बचेगी जल विन मीन

4 Likes · 4 Comments · 134 Views
You may also like:
तो क्या होगा?
Shekhar Chandra Mitra
सही-ग़लत का
Dr fauzia Naseem shad
ग़ज़ल -
Mahendra Narayan
आदतें
AMRESH KUMAR VERMA
अंदाज़।
Taj Mohammad
नादानियाँ
Anamika Singh
उसकी दाढ़ी का राज
gurudeenverma198
आजादी का जश्न
DESH RAJ
यह दिल
Anamika Singh
हरिगीतिका
शेख़ जाफ़र खान
छलकाओं न नैना
Dr.Alpa Amin
अमर कोंच-इतिहास
Pt. Brajesh Kumar Nayak
" मां" बच्चों की भाग्य विधाता
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
Little baby !
Buddha Prakash
✍️झूठ और सच✍️
'अशांत' शेखर
बुद्ध धाम
Buddha Prakash
और मैं .....
AJAY PRASAD
मुकरियां __नींद
Manu Vashistha
ठनक रहे माथे गर्मीले / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
रिश्तों की डोर
मनोज कर्ण
मानुष हूं मैं या हूं कोई दरिंदा
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
ये ख्वाब न होते तो क्या होता?
सिद्धार्थ गोरखपुरी
पिता:सम्पूर्ण ब्रह्मांड
Jyoti Khari
नारी को सदा राखिए संग
Ram Krishan Rastogi
यकीन
Vikas Sharma'Shivaaya'
हरीतिमा स्वंहृदय में
Varun Singh Gautam
बाबू जी
Anoop Sonsi
'बेटियाॅं! किस दुनिया से आती हैं'
Rashmi Sanjay
✍️जन्नतो की तालिब है..!✍️
'अशांत' शेखर
गुरुवर
AMRESH KUMAR VERMA
Loading...