Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 15, 2021 · 1 min read

नशाखोरी, भ्रष्टाचार

मर गई सायद इंसानियत चंद पैसो के आगे,
अबतो बईमान ही बलवान हैँ //
यहाँ हर गली-चौराहो मे रहता एक शैतान हैँ//

कुर्बान हो गई कई जिंदगी इन लालच के आगे,
जो इंसानियत को करती शर्मसार और बदनाम हैँ //
नशाखोरी, भ्रष्टाचार जैसा भी एक हैवान हैँ //

इसमें जकड़े मेरे भारत को देखकर,
मै कैसे कहदू… कि… मेरा भारत महान हैँ….//

134 Views
You may also like:
ज़मीं पे रहे या फलक पे उड़े हम
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मौत।
Taj Mohammad
भक्ति रस
लक्ष्मी सिंह
" जननायक "
DrLakshman Jha Parimal
मंजिल
AMRESH KUMAR VERMA
न कोई चाहत
Ray's Gupta
जिंदगी देखा तुझे है आते औ'र जाते हुए।
सत्य कुमार प्रेमी
शहीद बनकर जब वह घर लौटा
Anamika Singh
✍️ये अज़ीब इश्क़ है✍️
'अशांत' शेखर
पिंजरबद्ध प्राणी की चीख
AMRESH KUMAR VERMA
"बेटी के लिए उसके पिता "
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
सगुण
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कभी कभी।
Taj Mohammad
मन
Pakhi Jain
ग़र वो है बेवफ़ा बेवफ़ा ही सही
Mahesh Ojha
नया चिकित्सक
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
ए बदरी
Dhirendra Panchal
भरमा रहा है मुझको तेरे हुस्न का बादल।
सत्य कुमार प्रेमी
Gazal
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
पापा क्यूँ कर दिया पराया??
Sweety Singhal
नागफनी बो रहे लोग
शेख़ जाफ़र खान
सफर
Anamika Singh
इरादा
Shivam Sharma
फूलों की वर्षा
Pt. Brajesh Kumar Nayak
✍️पिता:एक किरण✍️
'अशांत' शेखर
शुभ मुहूर्त
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जागो राजू, जागो...
मनोज कर्ण
इश्क भी कलमा।
Taj Mohammad
हमारे पापा
पाण्डेय चिदानन्द
अपनी आँखों से ........................................
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
Loading...