Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Aug 2022 · 1 min read

नव गीत

एक नवगीत,,….

कोई कृष्ण न आएगा
^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^
सम्हल द्रौपदी शस्त्र उठा अब
कोई कृष्ण न आएगा ।।

वो द्वापर था कृष्ण संग था
तेरा कर्ज चुकाया था
सहस्त्र चीर दे कर जिसने
अस्मिता को बचाया था

इस कलयुग में सभी चन्द्रमा
कोई तरस न खायेगा ।।

न कोई मातु न कोई बेटी
पहले सब ही नारी हैं
नारी भी केवल भोग्या है
वहशीपन की प्यारी है

सबला हो कर मर्द बनो अब
शस्त्र साथ निभाएगा ।।

चलना सिर पर कफ़न बाँध कर
राहों में बाजारों में
किसी आपदा की शंका हो जब
दब जाना दीवारों में

तांडव करके रक्तपान कर
काम अस्त्र ये आएगा ।।

चण्डी बन कर तांडव कर ले
धर त्रिशूल महिषासुर में
अब पहचानो अपने शौर्य को
घूम मचा तीनो पुर में

राह देखते सभी शस्त्र अब
अपना काम बनाएगा ।।

सुशीला जोशी, विद्योत्तमा
मुजफ्फरनगर उप्र
9717260777
sushilajoshi24@gmail.com

**********************

Language: Hindi
2 Likes · 9 Comments · 201 Views
You may also like:
"चरित्र-दर्शन"
Dr. Kishan tandon kranti
वक्त एक दिन हकीकत दिखा देता है।
वक्त एक दिन हकीकत दिखा देता है।
Taj Mohammad
मोहब्बत के वादे
मोहब्बत के वादे
Umender kumar
सारे आँगन पट गए (गीतिका )
सारे आँगन पट गए (गीतिका )
Ravi Prakash
Ek din ap ke pas har ek
Ek din ap ke pas har ek
Vandana maurya
मुक्तक: युद्ध को विराम दो.!
मुक्तक: युद्ध को विराम दो.!
Prabhudayal Raniwal
✍️दिल चाहता...
✍️दिल चाहता...
'अशांत' शेखर
💐अज्ञात के प्रति-44💐
💐अज्ञात के प्रति-44💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मुक्तक
मुक्तक
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
रात के अंधेरों से सीखा हूं मैं ।
रात के अंधेरों से सीखा हूं मैं ।
★ IPS KAMAL THAKUR ★
Chubhti hai bate es jamane ki
Chubhti hai bate es jamane ki
Sadhna Ojha
जुल्म मुझपे ना करो
जुल्म मुझपे ना करो
gurudeenverma198
उनसे बिछड़ कर ना जाने फिर कहां मिले
उनसे बिछड़ कर ना जाने फिर कहां मिले
श्याम सिंह बिष्ट
समय से पहले
समय से पहले
अंजनीत निज्जर
इश्क़ इबादत
इश्क़ इबादत
DR ARUN KUMAR SHASTRI
अलाव
अलाव
Surinder blackpen
जौदत
जौदत
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
सफलता की आधारशिला सच्चा पुरुषार्थ
सफलता की आधारशिला सच्चा पुरुषार्थ
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
आत्मा को ही सुनूँगा
आत्मा को ही सुनूँगा
राहुल द्विवेदी 'स्मित'
मूर्दों का देश
मूर्दों का देश
Shekhar Chandra Mitra
जहां पर रब नही है
जहां पर रब नही है
अनूप अम्बर
परवाना ।
परवाना ।
Anil Mishra Prahari
#Daily writing challenge , सम्मान ___
#Daily writing challenge , सम्मान ___
Manu Vashistha
समाज का दर्पण और मानव की सोच
समाज का दर्पण और मानव की सोच
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
عجیب دور حقیقت کو خواب لکھنے لگے۔
عجیب دور حقیقت کو خواب لکھنے لگے۔
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
■ उत्सवी सप्ताह....
■ उत्सवी सप्ताह....
*Author प्रणय प्रभात*
सजना सिन्होरवाँ सुघर रहे, रहे बनल मोर अहिवात।
सजना सिन्होरवाँ सुघर रहे, रहे बनल मोर अहिवात।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
*होली*
*होली*
Shashi kala vyas
हम तमाशा थे ज़िन्दगी के लिए
हम तमाशा थे ज़िन्दगी के लिए
Dr fauzia Naseem shad
विरान तो
विरान तो
rita Singh "Sarjana"
Loading...