Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

नव किसलय

नव किसलय स्फुटित हो
चटक रही है कली कली
गुंजित है हर फूल खिला है
हर डाली पर अलि अलि
भाष्कर आभा फैलाए
खिले हुए है पुष्प डालपर
महक रही हर गली गली
सुन्दर स्मित प्रकृति कर रही
सब दिखता है भली भली
शुभप्रभात
विन्ध्यप्रकाश मिश्र

683 Views
You may also like:
कैसे मैं याद करूं
Anamika Singh
राखी-बंँधवाई
श्री रमण 'श्रीपद्'
बेजुबां जीव
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
ख़्वाब सारे तो
Dr fauzia Naseem shad
कोई खामोशियां नहीं सुनता
Dr fauzia Naseem shad
पितृ वंदना
मनोज कर्ण
आज तन्हा है हर कोई
Anamika Singh
कर्म का मर्म
Pooja Singh
ओ मेरे साथी ! देखो
Anamika Singh
सूरज से मनुहार (ग्रीष्म-गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
हमें अब राम के पदचिन्ह पर चलकर दिखाना है
Dr Archana Gupta
पिता हैं धरती का भगवान।
Vindhya Prakash Mishra
फ़ायदा कुछ नहीं वज़ाहत का ।
Dr fauzia Naseem shad
प्रात का निर्मल पहर है
मनोज कर्ण
मेरी भोली “माँ” (सहित्यपीडिया काव्य प्रतियोगिता)
पाण्डेय चिदानन्द
महँगाई
आकाश महेशपुरी
फहराये तिरंगा ।
Buddha Prakash
छलकता है जिसका दर्द
Dr fauzia Naseem shad
नदी की अभिलाषा / (गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता
Mamta Rani
गीत
शेख़ जाफ़र खान
✍️इतने महान नही ✍️
Vaishnavi Gupta
सोलह शृंगार
श्री रमण 'श्रीपद्'
जागो राजू, जागो...
मनोज कर्ण
मेरी उम्मीद
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
लाचार बूढ़ा बाप
jaswant Lakhara
बँटवारे का दर्द
मनोज कर्ण
✍️सूरज मुट्ठी में जखड़कर देखो✍️
'अशांत' शेखर
अनामिका के विचार
Anamika Singh
अनामिका के विचार
Anamika Singh
Loading...